विराट ने 2016 में टीम इंडिया को पहुंचाया अर्श पर

टीम इंडिया के लिए साल 2016 बेहद खास रहा है, जहां एक ओर लगातार 18 टेस्ट मैचों में अपराजित रहने का रिकॉर्ड बना है तो वहीं दूसरी ओर एक के बाद एक पांच टेस्ट सीरीज अपने नाम की है। इसके साथ ही एक कैलेंडर साल में सर्वाधिक टेस्ट मैचों में जीत का नया इतिहास भी बनाया है।

विराट ने 2016 में टीम इंडिया को पहुंचाया अर्श पर

टीम इंडिया के लिए साल 2016 बेहद खास रहा है, जहां एक ओर लगातार 18 टेस्ट मैचों में अपराजित रहने का रिकॉर्ड बना है तो वहीं दूसरी ओर एक के बाद एक पांच टेस्ट सीरीज अपने नाम की है। इसके साथ ही एक कैलेंडर साल में सर्वाधिक टेस्ट मैचों में जीत का नया इतिहास भी बनाया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम इंडिया के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने भी कहा कि वर्ल्ड टी20 और ऑस्ट्रेलियाई धरती पर असफलता को छोड़ दें तो साल 2016 भारतीय क्रिकेट के लिए बेहतर रहा है। क्रिकेट को प्रतिस्पर्धा के नई ऊंचाई पर ले जाने वाले विराट का यह कहना भारत के क्रिकेट में प्रदर्शन की कहानी बयां करता है।

इस साल 2016 में टीम इंडिया ने 12 टेस्ट मैच खेले और कैलेंडर साल में सर्वाधिक 9 जीत का रिकॉर्ड स्थापित कर इस साल अकेली ऐसी टीम बनी जिसने इस फॉर्मेट में एक भी मैच नहीं गंवाया। वहीं विराट ने साल 2010 में मिली आठ जीत के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा दिया।

क्रिकेट टीम गेम है और प्रत्येक खिलाड़ी का योगदान ही मैच में जीत दिलाती है ,लेकिन कप्तान विराट कोहली और ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन इस साल के सबसे बड़ी हीरो रहे है। इनके साथ ही चेतेश्वर पुजारा, मुरली विजय, रविंद्र जडेजा, अजिंक्य रहाणे और साल के अंतिम टेस्ट में तिहरा शतक लगा कर करुण नायर ने भी कोई कसर नही छोड़ी है।

वहीं विराट अब तक 22 टेस्ट मैचों में कप्तानी कर चुके हैं, जिसमें से 14 में भारत को जीत दिलाई है। कोहली ने 12 टेस्ट मैचों में 75.93 की औसत से 1215 रन भी बनाए और जब जब जरूरत पड़ी तो दीवार की तरह खड़े होकर टीम को संकट से उबारा है। इसके साथ विराट ने वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के खिलाफ इस साल दोहरे शतक भी जड़े है।