गूगल के 10 लाख अकाउंट्स की सि‍क्‍युरि‍टी को है खतरा

इंड्रॉइड मालवेयर वर्जन गूलीगन की वजह से गूगल के 10 लाख अकाउंट्स की सि‍क्‍युरि‍टी को खतरा है...

गूगल के 10 लाख अकाउंट्स की सि‍क्‍युरि‍टी को है खतरा

गूलीगन की वजह से गूगल के करीब 10 लाख अकाउंट्स की सि‍क्‍युरि‍टी खतरे में पड़ गई है। गूलीगन एक इंड्रॉइड मालवेयर वर्जन है। सि‍क्‍युरि‍टी कंपनी चेक प्वाइंट सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजीज के मुताबि‍क गूगल का कहना है कि गूलीगन ने गूगल के 10 लाख से ज्यादा अकाउंट में सेंधमारी की है। साथ ही गूगल ने जानकारी दी है कि इससे जीमेल, गूगल फोटो, गूगल प्ले व गूगल डॉक्स से यूजर्स की जानकारी चुराई जा रही है वहीं गूगल ने कहा कि हम सिक्युरिटी बढ़ाने के साथ एक्शन भी ले रहे हैं।

बता दें कि चेक प्‍वाइंट के हेड ऑफ मोबाइल प्रोडक्‍ट्स माइलक शोलोव ने कहा कि 10 लाख गूगल अकाउंट डि‍टेल की चोरी होने का डर है जो काफी खतरनाक है और यह नेक्‍स्‍ट स्टेज के साइबर अटैक्‍स को दिखलाता है। जो काफी नुकसानदायक है।

गौरतलब हचेक प्‍वाइंट की रि‍पोर्ट में कहा है कि‍ मालवेयर रोजना 13,000 डि‍वाइसेस पर असर डाल रहा है। गूलीगन एंड्रॉइड 4 (जेली बीन, कि‍टकैट) और 5 (लॉलीपॉप) को टारगेट कर रहा मार्केट में मौजूद कुल एंड्रॉइड डि‍वाइसेस में इनकी हि‍स्‍सेदारी करीब 74% है। इसमें से 40% डि‍वाइसेस एशि‍या में और करीब 12 फीसदी यूरोप में हैं।

वहीं हैकर्स डि‍वाइसेस पर कंट्रोल करने के बाद गलत तरीके से रेवेन्‍यू जुटाते हैं। वो गूगल प्‍ले से ऐप्‍स इंस्‍टॉल करते हैं और डि‍वाइस के असल मालि‍क की ओर से रेटिंग देते हैं। रि‍पोर्ट में यह भी कहा गया है कि‍ गूलीगन रोजाना करीब 30 हजार ऐप्‍स इंस्‍टॉल कर रहा है। इन्फेक्शन तब शुरू होता है जब यूजर गूलीगन प्रभावि‍त ऐप डाउनलोड और इंस्‍टॉल करता है। चेक प्‍वाइंट ने कहा कि‍ उन्‍होंने गूगल सि‍क्‍युरि‍टी टीम को इस कैंपेन की जानकारी दी है।

गूगल के डायरेक्‍टर (एंड्रॉइड सि‍क्‍युरि‍टी) एड्रि‍यन लूडविंग ने कहा, ''हम चेक प्‍वाइंट की पार्टनरशि‍प की सराहना करते हैं और मि‍लकर इस मामले पर एक्‍शन लेंगे। 'मालवेयर की घोस्‍ट पुश फैमि‍ली से अपने यूजर्स को सुरक्षा देने के लि‍ए कंपनी की ओर से कई कदम उठाए गए हैं और पूरे एंड्रॉइड ईको-सि‍स्‍टम की सि‍क्‍युरि‍टी को सुधारा गया है।