इस आदमी ने बनाई प्रेजिडेंट स्टेट में गुफा, 40 सालों से रह रहा था

पुलिस ने प्रेजिडेंट स्टेट में आतंकी होने के शक में पुलिस ने सर्च ऑपरेशन के दौरान एक सफेद सफेद दाढ़ी वाले गाज़ी नूरल हसन को पकड़ा है...

इस आदमी ने बनाई प्रेजिडेंट स्टेट में गुफा, 40 सालों से रह रहा था

प्रेजिडेंट स्टेट का गश्त लगाते हुए पुलिस को ये जानकारी मिली थी की एक आदमी प्रेजिडेंट स्टेट के बॉडीगार्ड लाइन्स में पत्थर की दीवार फांदने की कोशिश कर रहा है। पुलिस ने आतंकी होने के शक से तुरंत एक टीम तैयार की और जंगल में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। सर्च ऑपरेशन में पुलिस को कामयाबी मिली और उन्होंने सफेद दाढ़ी वाले गाज़ी नूरल हसन को पकड़ लिया। उसके बाद उसे पुछताछ के लिए चाणक्यपुरी भेज दिया गया।

बता दें कि 68 साल के इस आदमी से जब इन्वेस्टिगेटर्स ने पूछताछ की तो वे ये जानकर हैरान रह गए कि वह पिछले 40 सालों से प्रेजिडेंट स्टेट के तुगलक काल के स्मारकों के नीचे एक मैली से गुफा में रहता है, जिसे उसने खुद खोदा था। हसन वहां अपने 22 साल के बेटे मोहम्मद नूर के साथ रहता है। पिछले 20 साल से उसके पास वोटर आईडी, पासपोर्ट, वैध इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन है। इन सभी डॉक्युमेंट्स में पता मज़ार का लिखा हुआ था। हसन का कहना है कि इस सब का कार्यवाहक वही था।

इतना ही नहीं उसकी पिछली जिंदगी के बारे में पूछने पर हसन ने बताया कि वह मूल रूप से उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। वह धार्मिक गुरु और उर्दू लेखक था और बाद में वह प्रजिडेंट स्टेट में शिफ्ट हो गया । पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद ने हसन को धार्मिक गुरु के तौर पर नियुक्त किया था।

हसन ने राष्ट्रपति के आग्रह पर कई परिवारों को उर्दू सिखाई। एक बार कुछ जड़ी-बूटियों की खोज करते हुए वह मज़ार तक आ गया। हसन ने बताया कि तब मैंने वहां पर खुदाई करने का और रहने लायक जगह बनाने का फैसला लिया। जब हसन से दीवार फांदने की बात की गई तो उसने कहा कि पहले मैं बॉडीगार्ड लाइन के गेट से होते हुए ही मैं अंदर जाता था। पर अब वह गेट बंद कर दिया जाता है और उसके बाद दीवार फांद के जाने के अलावा कोई और चारा नहीं बचता।