विज्ञान फिल्म निर्माण पर राष्ट्रीय कार्यशाला समाप्त

लखनऊ में विज्ञान फिल्म पर पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग, ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती उर्दू, अरबी-फारसी विश्वविद्यालय और विज्ञान प्रसार, डीएसटी, भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला का समापन हुआ।

विज्ञान फिल्म निर्माण पर राष्ट्रीय कार्यशाला समाप्त

लखनऊ में विज्ञान फिल्म पर पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग, ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती उर्दू, अरबी-फारसी विश्वविद्यालय और विज्ञान प्रसार, डीएसटी, भारत सरकार द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित राष्ट्रीय स्तर की कार्यशाला का समापन हुआ। इस कार्यशाला में पो. ए.के शर्मा निदेशक, इंस्टीट्यूट आफ मास कम्यूनिकेशनइन साइंस एण्ड टेक्नालोजी और वी0के0 जोशी वरिष्ठ विज्ञान संचारक एवं पूर्व भूवैज्ञानिक अतिथि के रूप में शामिल हुए।  इस तीन दिवसीय कार्यशाला का उद्देश्य पत्रकारिता के छात्रों और उससे जुडे़ व्यवसायिकों के बीच एक बेहतर विज्ञान संचार कौशल विकसित करना था।

कार्यशाला के दौरान छात्रों ने श्री मतीउर्रहमान एवं श्रीमती पूनम चैरसिया के कुशल मार्गदर्शन में विज्ञान विषयों पर केन्द्रित विज्ञान फिल्म बनाने की व्याकरण और तकनीक को सीखा, जो एक गुणवत्तापरक विज्ञान फिल्म बनाने के लिए आवश्यक है। इस कार्यशाला में भाग लेने वाले छात्रों ने ‘प्रकृति की सुंदरता’, ‘गो कैशलेस’, ‘साइंस इन आर्कीटेक्चर’, ‘बायोडायवर्सिटी’, ‘ए हेट लव डिसोनेन्स’ जैसे विषयों पर शार्ट फिल्म भी बनाई।

कार्यशाला के रिसोर्स पर्सन श्री मतीउर्रहमान ने तकनीकी सत्र के दौरान छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि विज्ञान संचार आम जनमानस तक  संदेश को व्यापक रूप से पहुंचाने के लिये अतिमहत्वपूर्ण है। उन्होंने यह भी बताया कि कार्यशाला के दौरान प्रतिभागियों को लक्षित दर्शकों का निव्परिण करना, प्रासंगिक वैज्ञानिक सामग्री की पहचान करना। और एक व्यापक और आकर्षक तरीके से सामग्री की संरचना करना सिखाने का प्रयास किया गया है।

मुख्य अतिथि के रूप में कार्यशाला को सम्बोधित करते हुये प्रो0 ए0के0 शर्मा ने विज्ञान संचार और विशेष रूप से स्वास्थ्य संचार में इसकी भूमिका की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंनेे कहा कि लोग अक्सर जानकारी, जागरूकता और प्रभावी संचार के अभाव में स्वास्थ्य सम्बंधी मुद्दों पर भ्रमित हो जाते हैं।  तथा जागरूकता से इस क्षेत्र में काफी काम किये जा सकते हैं।

अपने भाषण में, श्री वी0के0 जोशी ने पर्यावरण क्षरण के विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात रखी और जैव विविधता संरक्षण में सकारात्मक योगदान करने के लिए सभी से आग्रह किया। उन्होंने आगे कहा कि पर्यावरण प्रदूषण, कार्बन उत्सर्जन जैसे पॉलिथीन बैग का उपयोग के कारण जलाशयों पर पड़े हानिकारक प्रभाव जैसे कई मुद्दो को प्रभावी संचार के कारण सार्वजनिक बहस के मंच पर लाया गया है।

तीन दिवसीय कार्यशाला की गतिविधियों का संक्षेप में वर्णन करते हुये श्री निमीश कपूर, वैज्ञानिक ‘ई’ एवं प्रभारी साइंस फिल्म प्रभाग, विज्ञान प्रसार, डीएसटी, भारत सरकार ने कहा कि अधिकतर मीडिया संस्थान विज्ञान संचार में विशेष प्रशिक्षण प्रदान नहीं करते हैं। यह कार्यशालायें उनके लिये लर्निंग सप्लीमेंट और विज्ञान संचार और फिल्मांकन में प्रशिक्षित करने का एक उपयोगी स्त्रोत है।

धन्यवाद ज्ञापन कार्यशाला समन्वयक सुश्री रूचिता सुजय चैधरी द्वारा दिया गया तथा डाॅ0 तनु डंग सह समन्वयक ने कार्यशाला का संचालन किया। इस तीन दिवसीय कार्यशाला में उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से 50 से अधिक प्रतिभागी सम्मिलित हुए।