अमेरिका: नूयी को एडवाइजरी काउंसिल में मिली जगह

डोनाल्ड ट्रम्प का खुलकर विरोध कर चुकी पेप्सिको की चेयरमैन इंदिरा नूयी को एडवाइजरी काउंसिल में जगह मिली ।

अमेरिका: नूयी को एडवाइजरी काउंसिल में मिली जगह

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी आर्थिक सलाहकार समिति में पेप्सिको की चेयरमैन और सीईओ इंदिरा नूयी को शामिल किया है। भारतीय मूल की नूयी के अलावा स्पेस एक्स और टेस्ला के फाउंडर इलोन मस्क और ऊबर के सीईओ ट्रेविस कालानिक को भी सलाहकार समिति में शामिल किया गया है।

काउंसिल का मकसद ट्रम्प को प्राइवेट सेक्टर पर इंडस्ट्री का इनपुट देना है। यह ट्रेड और इकोनॉमी से जुड़े मसलों पर भी प्रेसिडेंट को सलाह देती है। 61 वर्षीय इंदिरा नूयी का जन्म चेन्नई में हुआ था। नूयी 19 सदस्यों वाली इस काउंसिल की अकेली भारतीय मूल की महिला हैं।

बीते बुधवार को इन तीनों दिग्गज हस्तियों को ट्रंप सरकार को आर्थिक मामलों पर सलाह देने के लिए सलाहकार समिति में शामिल करने की घोषणा की गई है। नूयी अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान ट्रंप का मुखर विरोधी रही हैं।

हिलेरी क्लिंटन के ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद भी नूयी ने टिप्पणी करते हुए कहा था कि डोनाल्ड की जीत से उनकी बेटियां, समलैंगिक कार्यकर्ता, एंप्लॉयीज और अश्वेत लोग गहरी चिंता में हैं।

इंदिरा नूयी का कहना है कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद से इन लोगों को अपनी सुरक्षा की चिंता सता रही है।

नुई के अलावा चुने गए मस्क ने भी राष्ट्रपति चुनावों के दौरान कहा था कि डोनाल्ड ट्रंप वाइट हाउस में जाने के काबिल नहीं हैं।

ट्रंप ने अपने बयान में कहा कि हमारा प्रशासन व्यापार के माहौल को बढावा देने के लिए निजी क्षेत्र के साथ मिलकर काम करने का कोशिश करेगा। इससे पहले डोनाल्ड रिपब्लिक हिंदू गठबंधन के अध्यक्ष शलभ कुमार को एक वित्त संबंधी टीम का हिस्सा बना चुके हैं।