नोटबंदी: नकदी की कमी से भड़के कई देशों के डिप्लोमैट

भारत सरकार के नोटबंदी फैसले की वजह से भारत में मौजूद बहुत से अन्य देशों के दूतावासों ने बैंक विदड्रॉल लिमिट को लेकर नाराजगी जताई है।

नोटबंदी: नकदी की कमी से भड़के कई देशों के डिप्लोमैट

भारत सरकार के नोटबंदी फैसले की वजह से भारत में मौजूद बहुत से अन्य देशों के दूतावासों ने बैंक विदड्रॉल लिमिट को लेकर नाराजगी जताई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ दूतावासों ने तो अपने देश में सरकारों को भारतीय दूतावासों के लिए भी बैंक से कैश निकालने पर लिमिट लगाने का सुझाव भी दिया है।

बता दें कि रूस, कजाकिस्तान, यूक्रेन, इथियोपिया और सूडान के दिल्ली में मौजूद दूतावासों ने अपने बैंक खाते से विदड्रॉल लिमिट के कारण हो रही मुश्किलों को लेकर एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्ट्री को कड़े शब्दों में पत्र लिखे हैं। वहींम कजाकिस्तान के दूतावास ने पिछले सप्ताह अपना नेशनल डे मनाया था और नकदी की कमी की वजह से उसे इंतजाम करने में काफी परेशानी हुई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक विदेशी डिप्लोमैट ने बताया है कि 500-1000 रुपये के पुराने नोटों पर प्रतिबंध लगने के बाद बैंक विदड्रॉल लिमिट को लागू हुए एक महीना बीत चुका है। इसे लेकर एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्ट्री से कई बार संपर्क किया गया लेकिन मिनिस्ट्री ने इसका कोई समाधान नहीं निकाला है।

भारत में रूस के राजदूत एलेक्जेंडर कदाकिन ने 2 दिसंबर को एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्ट्री को लिखे एक पत्र में कहा है कि भारत सरकार के निर्देशों के तहत दूतावास को प्रति सप्ताह  50,000 रुपये ही नकदी निकालने की अनुमति है। एलेक्जेंडर का कहना था कि इतनी रकम सैलरी के साथ ही दूतावास के खर्चों के लिए भी पर्याप्त नहीं है।