85 लाख के काले धन को सफेद करने में पूर्व कांग्रेस मंत्री के भतीजे का नाम शामिल

नोटबंदी के बाद ही पूर्व मंत्री का यह भतीजा अपने दोस्त के साथ मिलकर पैसे बदलवाने के गैरकानूनी धंधे में लगा हुआ था। क्राइम ब्रांच अधिकारियों ने बताया कि आरोपी माटुंगा से ऑपरेट कर रहा था...

85 लाख के काले धन को सफेद करने में पूर्व कांग्रेस मंत्री के भतीजे का नाम शामिल

क्राइम ब्रांच जिन 85 लाख के बरामद नोटों के बारे में पूछताछ कर रही है उसमें कांग्रेस के पूर्व मंत्री का भतीजा भी शामिल है।आरोप है कि नोटबंदी के बाद ही पूर्व मंत्री का यह भतीजा अपने दोस्त के साथ मिलकर पैसे बदलवाने के गैरकानूनी धंधे में लगा हुआ था। क्राइम ब्रांच अधिकारियों ने बताया कि आरोपी माटुंगा से ऑपरेट कर रहा था। क्राइम ब्रांच ने दादर के पास फाइव गार्डन्स के नजदीक अलग-अलग समूहों में जा रहे 7 लोगों को हिरासत में लिया था। उनके पास से 85 लाख रुपये बरामद किए गए थे। पुलिस का कहना है कि वे लोग कमिशन लेकर पुराने नोट बदलवाने जा रहे थे।

बता दें कि पहले समूह में नए नोटों के साथ 4 लोग थे, वहीं दूसरे समूह में 3 लोग पुराने नोट लेकर वहां पहुंचे थे। चूंकि अभी किसी के भी खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया गया है, ऐसे में हम आपको उनका नाम नहीं बता रहे हैं। बताया जा रहा है कि एक पूर्व पत्रकार ने पुलिस को इस मामले की जानकारी दी थी। क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने बताया, 'हमें नहीं पता कि उस पत्रकार का मकसद क्या था, लेकिन उसकी सूचना के आधार पर हमने काले धन को सफेद करने वाले इस गिरोह का पर्दाफाश किया है।

गौरतलब है कि पुलिस को सूचना मिली थी कि पहला ग्रुप दूसरे समूह को 85 लाख रुपये के नए नोट देगा। इसके बदले दूसरा समूह उन्हें 1 करोड़ रुपये देने वाला था। हालांकि पुलिस को दूसरे समूह के पास से नकद नहीं मिला है। क्राइम ब्रांच ने यह जानकारी आयकर विभाग के साथ साझा की है। आयकर विभाग भी इस मामले की जांच करेगा। एक अधिकारी ने बताया, 'पुलिस की जांच अलग चलती रहेगी।' आयकर विभाग के अधिकारियों ने सभी पकड़े गए आरोपियों ने पूछताछ की और उनसे यह जानने की कोशिश की कि उनके पास इतना पैसा कहां से आया। 85 लाख रुपयों में से करीब 72 लाख रुपये नए जारी हुए 2,000 के नोटों में थे। बाकी 13 लाख रुपये 100 के नोटों की गड्डी में थे।