रिजर्वेशन चार्ज के बाद ट्रेन में खाली सीट बुक करने पर मिलेगी 10 % की छूट: रेलवे

ट्रेन में अब खाली बचे डिब्बो से बचने के लिए रेलवे ने एक फैसला लिया है जिससे ट्रेन में अब खाली डिब्बे नहीं रहेंगे। 1 जनवरी, 2017 से सभी ट्रेनों में रिजर्वेशन चार्ज बनने के बाद खाली बची सीटों को बुक करने पर 10 फीसदी डिस्‍काउंट मिलेगा...

रिजर्वेशन चार्ज के बाद ट्रेन में खाली सीट बुक करने पर मिलेगी 10 % की छूट: रेलवे

ट्रेन में अब खाली बचे डिब्बो से बचने के लिए रेलवे ने एक फैसला लिया है जिससे ट्रेन में अब खाली डिब्बे नहीं रहेंगे। 1 जनवरी, 2017 से सभी ट्रेनों में रिजर्वेशन चार्ज बनने के बाद खाली बची सीटों को बुक करने पर 10 फीसदी डिस्‍काउंट मिलेगा। भारतीय रेलवे ने यह प्रयोग शताब्‍दी, दुरंतो और राजधानी ट्रेनों में इस महीने शुरु किया था और अब यह ट्रायल छह महीनों के लिए सभी ट्रेनों पर किया जाएगा। 28 दिसंबर को रेलवे द्वारा जारी सर्कुलर में कहा गया है कि ”यह फैसला किया गया है कि 1 जनवरी 2017 से सभी अन्‍य ट्रेनों की रिजर्व श्रेणियों में 10 फीसदी की छूट दी जाएगी। यह इस्तेमाल छह महीनों तक किया जाएगा।

बता दें कि जोनल रेलवे इस योजना की एक रिपोर्ट  तैयार करके 31 अप्रैल, 2017 से पहले रेलवे बोर्ड को सौंपेंगे। ताकि इस योजना को आगे बढ़ाने पर फैसला किया जा सके। रेलवे मंत्रालय ने यह इस्तेमाल तब शुरू की जब उसने ऐसी ट्रेंस पर फ्लेक्‍सी-फेयर सिस्‍टम की समीक्षा की। कुछ रूट्स पर ज्‍यादा किराए की वजह से ट्रैफिक में कमी आ रही थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया। वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने संकेत दिए थे कि रेलवे को मुनाफे में लाने के लिए सरकार आउटसोर्सिंग पर जोर देगी।

वहीं कुछ दिन पहले, रेलवे ने ट्रेनों के कोचों में पैसेंजर कैपिसिटी बढ़ाने समेत अन्य मुद्दों पर लोगों से सुझाव मांगे थे। अगर आपके पास रेलवे से जुड़े कुछ आइडिया हैं तो आप 12 लाख रुपए इनाम जीत सकते हैं। रेल मंत्रालय की ओर से पैसेंजर कैपेसिटी बढ़ाने, स्टेशनों पर नई डिजिटल क्षमता के विकास और लो लेवल प्लेटफॉर्म से ट्रेनों में आसानी से चढ़ने-उतरने के बारे में लोगों से अपने सुझाव देने को कहा गया है।

गैरतलब है कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे बजट पेश करते समय इस तरह के अभियान की घोषणा की थी। रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक आज की जेनेरेशन नवीन विचारों से भरपूर और टेक्नोलॉजी की दृष्टि से बहुत की कुशाग्र है। आने वाला समय डिजीटल का है, ऐसे में सभी नागरिकों से नवीन विचारों की मांग की गई है, इनमें से कुछ चुने हुए विचारों को लागू करने से रेलवे को भी बड़ा फायदा हो सकता है।