मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा जरुरी है- सीपी ठाकुर

अब वक्त आ गया है कि मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा की जाए और इस दिशा में आगे भी बढ़ना पड़ेगा। पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से खास बाचतीत में मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा किए जाने पर जोर दिया।

मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा जरुरी है- सीपी ठाकुर

अब वक्त आ गया है कि मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा की जाए और इस दिशा में आगे भी बढ़ना पड़ेगा। पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर ने नारदा न्यूज के पॉलिटिकल एडिटर विकास राज तिवारी से खास बाचतीत में मौजूदा आरक्षण नीति की समीक्षा किए जाने पर जोर दिया। उन्होंने ने कहा कि आजादी के करीब सत्तर साल बीत जाने के बाद भी आरक्षण का लाभ उनको नहीं मिल पा रहा है जिन्हें वाकई आरक्षण की जरुरत है। ठाकुर ने ‘कास्ट बेस्ड’ आरक्षण नीति में बदलाव कर इसे ‘इकोनॉमिकल बेस्ड’ करने की जरुरत पर बल दिया। उन्होंने कहा कि देश में गरीब तबके को आरक्षण की जरुरत है, आरक्षण की जरुरत उनको है जो अभी तक मेनस्ट्रीम से नहीं जुड़ पाए हैं। ठाकुर ने कहा कि वैसे लोगों को आरक्षण का लाभ नहीं लेना चाहिए जो मौजूदा आरक्षण नीति के तहत आरक्षण कैटेगरी में आते हैं लेकिन आर्थिक रुप से संपन्न हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे सीपी ठाकुर ने कहा कि गरीबों को विकास की राह से जोड़ना आवश्यक है । इसके लिए जरुरी है कि आरक्षण नीति में समीक्षा कि जाए और आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की व्यवस्था बनाई जाए। आपको बता दें कि सीपी ठाकुर गरीब सवर्णों के लिए आरक्षण की मांग पहले भी कर चुके हैं। वहीं सीपी ठाकुर बाचचीत के दौरान ये कहा कि जल्दी ही बिहार की राजनीति में बदलाव होने वाला है। संभव है कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार लालू यादव का साथ छोड़कर एनडीए का हिस्सा बन जाएं। केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले को आर्थिक क्रांति बताया और कहा कि जल्दी ही कुछ साकारात्मक परिणाम देश को देखने को मिलेगा। नारदा न्यूज़ से बातचीत के दौरान सीपी ठाकुर ने केंद्र की मोदी सरकार को सलाह देते हुए कहा कि जो भी पैसे नोटबंदी के बाद से सरकार के खाते में आ रहे है उसका इस्तेमाल गरीबों के उत्थान के लिए किया जाए।