RSS एक लत की तरह है, जो इसके आदि हो जाते हैं वो कहीं और नहीं जा सकते: भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस को एक लत बताया और कहा कि जो इसके आदि हो जाते हैं, वो फिर कहीं और नहीं जा सकते है।

RSS एक लत की तरह है, जो इसके आदि हो जाते हैं वो कहीं और नहीं जा सकते: भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस को दुनिया में मानव विकास का एक अनूठा मॉडल बताते हुए कहा कि लोग अपनी इच्छा से संघ में शामिल होने या इसे छोड़ने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन इस संगठन को समझने के लिए व्यक्ति को खुले विचार का होना चाहिए।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आरएसएस को एक लत बताया और कहा कि जो इसके आदि हो जाते हैं, वो फिर कहीं और नहीं जा सकते है। इसी कारण कुछ लोग इस संगठन में शामिल नहीं हो पाते है। उन्होंने कहा कि कोई भी अपनी इच्छा से संगठन में शामिल होने या इसे छोड़ने को स्वतंत्र है।

आरएसएस की स्थापना के 90 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में मोहन भागवत ने कहा कि आरएसएस को समझने के लिए प्रयास करना महत्वपूर्ण है लेकिन आरएसएस को समझने के लिए व्यक्ति को खुले विचार का होना चाहिए और उसके भीतर जिज्ञासा होनी चाहिए।