स्कूल ड्राप आउट आदिवासी लड़की की फिल्म को फिल्म फेस्टिवल में दूसरा स्थान 

कोई डेढ़ साल पहले छत्तीसगढ़ का मैनपाट और मांझी जनजाति सुर्खियों में था. तब मांझी जनजाति के पांच वर्षीय एक बच्चे की भूख से मौत हो गई थी. आज फिर मैनपाट और मांझी सुर्खियों में है लेकिन इस बार सुर्खियों की वजह 17 साल की स्कूल ड्राप आउट लड़की अंजलि नाग है. जिसने पूरे देश में अपनी जाति और जगह का नाम रौशन कर दिया है. 17 साल की अंजलि नाग की फिल्म“एजुकेशन फॉर ऑल, एक्सेप्ट गर्ल्स” को ग्रामीण विकास पर हुई नेशनल फिल्म फेस्टिवल में दूसरी सर्वश्रेष्ठ फिल्म घोषित हुई है.

स्कूल ड्राप आउट आदिवासी लड़की की फिल्म को फिल्म फेस्टिवल में दूसरा स्थान 

कोई डेढ़ साल पहले छत्तीसगढ़ का मैनपाट और मांझी जनजाति सुर्खियों में था. तब मांझी जनजाति के पांच वर्षीय एक बच्चे की भूख से मौत हो गई थी. आज फिर मैनपाट और मांझी सुर्खियों में है लेकिन इस बार सुर्खियों की वजह 17 साल की स्कूल ड्राप आउट लड़की अंजलि नाग है. जिसने पूरे देश में अपनी जाति और जगह का नाम रौशन कर दिया है. 17 साल की अंजलि नाग की फिल्म“एजुकेशन फॉर ऑल, एक्सेप्ट गर्ल्स” को ग्रामीण विकास पर हुई नेशनल फिल्म फेस्टिवल में दूसरी सर्वश्रेष्ठ फिल्म घोषित हुई है.