कांग्रेस के अघोषित सीएम उम्मीदवार हैं सिद्धू: केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि AAP ने सिद्धू को डिप्टी सीएम का पद ऑफर किया था वह इसे ठुकरा कर गए क्योंकि उन्हें सीएम बनना था।

कांग्रेस के अघोषित सीएम उम्मीदवार हैं सिद्धू: केजरीवाल

शुक्रवार को कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ ट्विटर फाइट में उलझने के बाद अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर बड़ा बयान दिया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल ने कहा कि अब यह कोई छिपा हुई बात नहीं है कि सिद्धू कांग्रेस में सीएम बनने के लिए ही गए हैं।

केजरीवाल ने बताया कि आम आदमी पार्टी ने सिद्धू को डिप्टी सीएम का पद ऑफर किया था वह इसे ठुकरा कर गए क्योंकि उन्हें सीएम बनना था। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस आलाकमान ने सिद्धू को फिलहाल सिर्फ चुप रहने के लिए कहा गया है।

केजरीवाल ने अमरिंदर सिंह पर झूठे वादे करने का आरोप लगाया। केजरीवाल ने कहा कि क्या कांग्रेस के अघोषित सीएम नवजोत सिंह सिद्धू कैप्टन सिंह के छूठे वादों से वाकिफ हैं क्या सिद्धू इनसे सहमत हैं, और क्या कैप्टन साहब ने इन वादों को करने से पहले सिद्धू से परमिशन ली है?

दिल्ली के सीएम ने आगे कहा, 'सारा देश जानता है कि राहुल गांधी, कैप्टन अमरिंदर सिंह बहुत नाराज हैं इसीलिए सिद्धू साहब को लाया गया है लेकिन उन्हें अभी चुप बैठने के लिए कहा गया है।'

केजरीवाल ने कहा कि अमरिंदर सिंह हमेशा से ही सरकारी नौकरियों के खिलाफ रहे हैं इस बार वह सरकारी नौकरी देने का वादा कर रहे हैं। अरविंद ने दावा किया कि पिछली बार 2002 में जब अमरिंदर सिंह सीएम बने थे तो उन्होंने सरकारी नौकरियां नहीं दी, खाली पड़े सरकारी पदों को भरने पर रोक लगा दी और जितनी सरकारी नौकरीयां दी वह भी ठेके पर दी।

केजरीवाल यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा, ‘कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब की जनता से पेंशन वादा कर रहे हैं जबकि जव वह सीएम थे तो उन्होंने एक नोटिफिकेशन लाकर सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली पेंशन पर रोक लगा दी थी।’

गौरतलब है कि शुक्रवार को अरविंद केजरीवाल और कैप्टन अमरिंदर सिंह एक बार ट्विटर पर उलझ गए हैं। पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने लांबी सीट से जरनैल सिंह को उम्मीदवार घोषित किया है। इसे लेकर ही केजरीवाल और बादल के बीच ट्विटर पर जंग छिड़ गई थी।