फादर टॉम को IS के चंगुल से रिहा कराने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा- सुषमा

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि कैथोलिक पादरी फादर टॉम उजहूनालिल को आइएस के चंगुल से रिहा कराने का पूरा प्रयास किया जाएगा।

फादर टॉम को IS के चंगुल से रिहा कराने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा- सुषमा

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि कैथोलिक पादरी फादर टॉम उजहूनालिल को आइएस के चंगुल से रिहा कराने का पूरा प्रयास किया जाएगा। फादर टॉम ने इसके पहले पोप के अलावा प्रधानमंत्री मोदी और भारत सरकार से आग्रह किया था कि उन्हें रिहा कराया जाए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि यदि वह यूरोपीय पादरी होते तो स्थिति अलग होती, भारतीय होने के नाते उनकी रिहाई को लेकर विश्व समुदाय द्वारा खास प्रयास नहीं किया जा रहा है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस पर ट्वीट कर कहा, 'फादर टॉम को रिहा कराने का हरसंभव प्रयास किया जाएगा।' गौरतलब है कि फादर थॉमस मार्च महीने से ही यमन में इस्लामिक स्टेट (IS)के बंधक हैं। मंगलवार को 55 वर्षीय इस पादरी का पांच मिनट का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें उन्होंने भारत सरकार से खुद को रिहा कराने का अनुरोध किया था।

सुषमा स्वराज ने अपने ट्वीट में कहा, 'मैंने फादर टॉम का वीडियो देखा है। वह एक भारतीय नागरिक हैं और हर भारतीय का जीवन हमारे लिए कीमती है। हमने अफगानिस्तान से फादर एलेक्स प्रेम कुमार और जुदिथ डिसूजा को रिहा कराया था. हम फादर थॉमस को रिहा कराने के लिए भी हरसंभव कोशिश करेंगे. ' विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, 'आप जानते हैं कि यमन की परिस्थितियां ऐसी हैं कि वहां लड़ाई जारी है और कोई भी एक केंद्रीय सत्ता नहीं है. फादर टॉम की रिहाई के लिए हम उस इलाके के दूसरे देशों, खासकर सऊदी अरब और यमन के स्थानीय प्रशासन के संपर्क में हैं.' गौरतलब है कि यमन में भारत का अपना दूतावास नहीं है.

Story by