नोटबंदी पीएम मोदी के शासन के अंत की शुरुआत: हिंदू महासभा

अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने पीएम नरेंद्र मोदी के नोटबंदी फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि नोटबंदी मोदी सरकार के शासन के अंत की शुरुआत है। मीडिया...

अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने पीएम नरेंद्र मोदी के नोटबंदी फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि नोटबंदी मोदी सरकार के शासन के अंत की शुरुआत है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महासभा के वरिष्‍ठ सदस्‍यों ने पीएम मोदी को हिंदू विरोधी भी बताया है।

उन्‍होंने कहा कि हिंदुओं शादियों के सीजन से पहले नोटबंदी की गई। वहीं दूसरी ओर बीजेपी नेता देश में इस्‍लामिक बैंकों को बढ़ावा दे रहे हैं। हिंदू महासभा की राष्‍ट्रीय महासचिव पूजा शकुन पांडे ने कहा कि इस योजना का उद्देश्‍य अब तक समझ नहीं आया। उन्‍होंने अलीगढ़ मे कहा कि गरीब लोग जो रोज के 200-300 रुपये कमाते थे और सरकारी पेंशन पर जीवन गुजार रहे लोग सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। इस कदम का अमीरों पर कोई असर नहीं पड़ा है

पूजा शकुन पांडे ने आगे कहा कि नोटबंदी का एलान हिंदुओं में शादी के सीजन शुरू होने से ठीक पहले किया गया। वहीं हजारों परिवारों को अपने दोस्‍तों और रिश्‍तेदारों से पैसा उधार लेना पड़ा। कई परिवारों को शादी आगे बढ़ानी पड़ी तो कई ने रद्द कर दी।

उन्होंने कहा कि तथा‍कथित हिंदुत्‍व पार्टी के नेता देश में इस्‍लामिक बैंकिंग को बढ़ावा दे रहे हैं। उनका इशारा शोलापुर से बीजेपी सांसद और महाराष्‍ट्र के सहकारिता मंत्री सुभाष देशमुख की ओर था। सुभाष देशमुख ने हाल ही में देश का पहला इस्‍लामिक बैंक शुरू किया है।