यूपी चुनाव: दलितों को लुभाने के लिए कांग्रेस ने बनाई 85 टीमें

यूपी आगामी विधानसभा के मद्देनजर दलितों तक अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए कांग्रेस ने तैयारी शुरू कर दी है। कांग्रेस ने 85 टीमें बनाई हैं। ये टीमें 4 दिसंबर से आरक्षित सीटों वाले क्षेत्रों का दौरा करेंगी। इसके साथ ही टीमें एक दिन एक गांव में जाएंगी और दलितों के साथ अधिक से अधिक समय बिताएंगी।

यूपी चुनाव: दलितों को लुभाने के लिए कांग्रेस ने बनाई 85 टीमें

यूपी आगामी विधानसभा के मद्देनजर दलितों तक अपनी पहुंच बढ़ाने के लिए कांग्रेस ने तैयारी शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनरल सेक्रेट्री गुलाम नबी आजाद,यूपी अध्यक्ष राज बब्बर, प्रमोद तिवारी और संजय सिंह संसद में व्यस्त हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस यूपी चुनाव में दलितों को लुभाने की योजना बना रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस ने 85 टीमें बनाई हैं। ये टीमें 4 दिसंबर से आरक्षित सीटों वाले क्षेत्रों का दौरा करेंगी। इसके साथ ही टीमें एक दिन एक गांव में जाएंगी और दलितों के साथ अधिक से अधिक समय बिताएंगी। यह योजना कांग्रेस ने पार्टी को दलित हितैषी बनाने के लिए उठाया है। इसके लिए कांग्रेस रोहित वेमुला केस, उना घटना और आरएसएस प्रमुख का आरक्षण पर बयान के मुद्दे को जोर शोर से उठाएगी।

बता दें कि यूपी आगामी चुनाव में कांग्रेस इसके साथ ही जाति समीकरणों के सहारे जीत हासिल करने की कोशिश में जुट गई है। कांग्रेस ने हाल ही में एलान किया था कि अगर कांग्रेस को वोट दिया तो वह 27 फीसदी के ओबीसी कोटे में ही अति पिछड़ा वर्ग की जातियों (MBCs) के लिए विशेष कोटा देगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सचिव गुलाम नबी आजाद ने कहा था कि यह वादा विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस अपने घोषणा पत्र में भी शामिल करेगी।