ट्रम्प- हमें नहीं चाहिए चुराया हुआ अमेरिकी ड्रोन, चीन ही रख ले

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अंडरवाटर ग्लाइडर (ड्रोन) को लेकर चीन को दो टूक जवाब दिया है. ट्विटर पर पोस्ट करते हुए ट्रंप ने लिखा, 'अमेरिकी नौसेना के समुद्र के अंदर चलने वाले जिस अंडरवाटर ग्लाइडर को चीन ने दक्षिण चीन सागर में जब्त किया है, वो अमेरिका को नहीं चाहिए. चीन ही उसे अपने पास रख ले.'

ट्रम्प- हमें नहीं चाहिए चुराया हुआ अमेरिकी ड्रोन, चीन ही रख ले

अमेरिका के प्रेसिडेंट इलेक्ट डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि चीन को जब्त अमेरिकी अंडरवाटर ड्रोन को अपने पास रख लेना चाहिए। ट्रम्प ने ट्वीट कर रहा, "हमें चीन को बता देना चाहिए कि हमें वह ड्रोन नहीं चाहिए जिसे चीन ने चुराया है, उसे यह अपने पास ही रख लेना चाहिए।


ट्रम्प ने किए 2 ट्वीट
- डोनाल्ड ट्रम्प ने इस मसले पर 2 ट्वीट किए हैं। अपने पहले ट्वीट में ट्रम्प ने चीन पर अमेरिकी ड्रोन चोरी का आरोप लगाया।
- लिखा, 'चीन ने इंटरनेशनल वाटर्स में यूएस नेवी के रिसर्च ड्रोन को चुरा लिया है, उन्होंने उसे पानी से निकाला और चीन ले गए, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ।'


https://twitter.com/realDonaldTrump/status/810288321880555520




पेंटागन के मुताबिक, दक्षिण चीन सागर में कुछ अवर्गीकृत वैज्ञानिक आंकड़े एकत्रित करने के दौरान चीन की ओर से गुरुवार को इस ड्रोन को जब्त कर लिया था. इस समूचे क्षेत्र पर चीन अपना दावा पेश करता है। अमेरिका ने इस ड्रोन की वापसी की मांग की थी और अंतरराष्ट्रीय समुद्र क्षेत्र में इसे एक गैरकानूनी तरीके से जब्ती बताया था।

इस पर चीन ने कहा कि जहाजों के सुरक्षित आवागमन सुनिश्चित करने के लिए चीन की सेना ने इस अंडरवाटर ग्लाइडर को जब्त कर लिया था, लेकिन वह इसे वापस दे देगा. बहरहाल, अभी इस बात का तत्काल पता नहीं चल पाया है कि चीन के साथ इस समझौते पर नवनिर्वाचित राष्ट्रपति के ट्वीट का क्या प्रभाव पड़ेगा.



क्या था ड्रोन का मकसद?
- अमेरिका के डिफेंस डिपार्टमेंट के एक ऑफिशियल के मुताबिक, अंडरवाटर ड्रोन को सुबिक घाटी से 50 km दूर अंतरराष्ट्रीय जल सीमा में पकड़ा गया था।
- 'चीन द्वारा जब्त किए गए ड्रोन का इस्तेमाल समुद्र के पानी में खारापन और तापमान की जांच के लिए किया जा रहा था।'


बे रीफ एरिया को आर्टिफिशियल आइलैंड में बदल दिया था।