प. बंगाल: ममता का दावा नहीं हुआ धुलागढ़ में काेई हिंसा

तृणमुल कांग्रेस सुप्रीमाें आैर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीते शुक्रवार को कहा कि हावड़ा जिले के धूलागढ़ में वहां पर कोई दंगा नहीं हुआ।

प. बंगाल: ममता का दावा नहीं हुआ धुलागढ़ में काेई हिंसा

तृणमुल कांग्रेस सुप्रीमाें आैर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीते शुक्रवार को कहा कि हावड़ा जिले के धूलागढ़ में वहां पर कोई दंगा नहीं हुआ। उन्होंने सोशल मीडिया पर इस मुद्दे पर गलत सूचना फैलाने आैर लाेगाें के बीच आग भड़काने का भी आरोप लगाया। यहां एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने धूलागढ़ में हिंसा की खबरों के संदर्भ में कहा कि बीते 15 दिनों से सोशल मीडिया पर एक ऐसी घटना के बारे में गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं जो दरअसल घटी ही नहीं। उन्होंने कहा कि किसी भी खबर के खुलासे के लिए गैर जिम्मेदाराना रवैया नहीं अपनाना चाहिए। ममता ने कहा कि अगर हकीकत में कोई घटना हुई है तो मीडिया को उसकी खबर देने का पूरा अधिकार है। लेकिन इससे पहले मौके पर जाकर हकीकत की जांच जरूर करनी चाहिए।

बहरहाल बीते बृहस्पतिवार को एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने  मीडिया से कहा था कि धूलागढ़ की हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है और हिंसा से प्रभावित परिवारों को मुआवजा देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार घरों को नुकसान पहुंचने या किसी परिवार के प्रभावित होने की स्थिति में उसे सहायता देने में हमेशा आगे रहती है। उन्होंने कहा कि सरकार मानवीयता के आधार पर यह सहायता देती है। लेकिन इसका प्रचार नहीं करती।

वहीं सरकारी सूत्रों ने मीडिया काे बताया कि धूलागढ़ की हिंसा में जिन लोगों को मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं उनको 35 हजार रुपये की दर से मुआवजा दिया जा रहा है। जिला पुलिस ने कहा कि प्रभावित इलाके के लोग अब भी अपने घरों को लौटने में हिचक रहे हैं। पुलिस ने इस हिंसा के सिलसिले में 58 लोगों को गिरफ्तार करने का दावा किया है।

ज्ञात हाे कि उक्त हिंसा की खबरें सामने आने के बाद हावड़ा के पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) सब्यसाची रमण मिश्र का कार्यभार संभालने के 15 दिनों के भीतर तबादला कर दिया गया था। पुलिस ने भाजपा, कांग्रेस और वामपंथी दलों के प्रतिनिधिमंडलों को हिंसा से प्रभावित इलाकों का दौरा करने से रोक दिया था। इस बीच, बीजेपी ने यह कहते हुए ममता को कटघरे में खड़ा कर दिया है कि हिंसा के दौरान हिंदुओं को ही निशाना बनाया गया। पार्टी ने इसके लिए मुख्यमंत्री की मुस्लिम तुष्टिकरण की नीति को जिम्मेदार ठहराया है।