इस वजह से प्रियंका गांधी एक्टिव पॉलिटिक्स में नहीं आ सकतीं !

आखिर प्रियंका गांधी एक्टिव पॉलिटिक्स में क्यों नहीं आ सकती हैं, सोनिया गांधी ने इसके पीछे की वजह अपने विश्वस्त लोगों को बताया है। पार्टी बुरे दौर से गुजर रही है फिर भी सोनिया प्रियंका को हरी झंडी नहीं दे रही हैं। इसके पीछे की असली वजह आप भी जानें...

इस वजह से प्रियंका गांधी एक्टिव पॉलिटिक्स में नहीं आ सकतीं !

प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में कब आएंगी और अगर देरी हो रही है तो क्यों हो रही है, आखिर बार-बार कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की तरफ से आग्रह किए जाने के बावजूद प्रियंका मेन स्ट्रीम पॉलिटिक्स में क्यों नही आ रही हैं। इन बातों को लेकर सत्ता के गलियारों और मीडिया में तमाम तरह चर्चाएं हो रही हैं। कयासों का बाजार गर्म है। इस बीच दस जनपथ से जुड़े विश्वसनीय श्रोतों से पता चला है कि प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में आने को बेताब हैं। इसके लिए उन्होंने अपनी मां कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कई दफा आग्रह भी किया है। प्रियंका सक्रिय राजनीति में आकर अपने भाई राहुल गांधी की मदद करना चाहती हैं साथ ही बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस पार्टी को संवारना चाहती है। सूत्रों से ये भी जानकारी मिली है कि कांग्रेस के कई बड़े नेता राहुल गांधी के नेतृत्व से खुश नहीं है। इन नेताओं ने प्रियंका गांधी को कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व करने को कहा है। बावजूद इसके सोनिया गांधी ने प्रियंका के एक्टिव पॉलिटिक्स में जाने को लेकर अपनी तरफ से हरी झंडी नहीं दी है।

अभी बैचरल ही रहना चाहते हैं राहुल गांधी

Rahul_Gandhi

दस जनपथ से जुड़े श्रोतों से एक दिलचस्प जानकारी भी मिली है। सवाल है कि आखिर कांग्रेस उपाध्यक्ष शादी क्यों नहीं कर रहे हैं ? सूत्रों से पता चला है कि सोनिया गांधी ने अपने बेटे राहुल गांधी को शादी करने के लिए कई बार कहा है। लेकिन राहुल गांधी हर बार टाल जाते हैं। दरअसल सोनिया गांधी राहुल गांधी की शादी किसी भारतीय लड़की से कराना चाहती हैं। लेकिन राहुल किसी विदेश लड़की को डेट कर रहे हैं। किसी विदेशी लड़की से शादी करना राहुल के राजनीतिक करियर के लिए ठीक नहीं होगा लिहाजा सोनिया गांधी इसके पक्ष में नहीं हैं। इन सब के बीच राहुल गांधी ने अपनी मां को कह दिया है कि वो अभी बैचलर ही रहना चाहते हैं।

राहुल एक कोलंबियन लड़की को डेट कर रहे हैं

सोनिया गांधी ने राहुल गांधी से उनकी शादी को लेकर दो लड़कियों के बारे मे चर्चा की थी। जिसे राहुल गांधी ने नकार दिया है। उनमें से एक लड़की जम्मू कश्मीर के प्रभावशाली मुस्लिम राजनीतिक परिवार से है जिसकी शिक्षा-दीक्षा ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से हुई है वहीं दूसरी लड़की मध्यप्रदेश के वरिष्ठ आईपीएस ऑफिसर की बेटी है। दोनों प्रस्तावों को राहुल खारिज कर चुके हैं। राहुल एक कोलंबियन लड़की को डेट कर रहे हैं। एक कोलंबियन लड़की के साथ छुट्टिया मनाते हुए राहुल को मीडिया ने भी देखा था। उस समय राहुल और उनकी कोलंबियन गर्लफ्रेंड को एक रिसॉर्ट में देखा गया था। जिस रिसॉर्ट में राहुल को अपनी गर्लफेंड के साथ दिखे थें उस रिसॉर्ट का मालिक कर्नाटक के एक पूर्व मंत्री का बेटा है।

अफगानी लड़की के साथ करते है डैस ड्राइविंग

उस समय मीडिया में राहुल की जो तस्वीर आई थी उसको लेकर काफी हो हल्ला विपक्ष ने किया था। राहुल के आचरण को इंडियन कल्चर के खिलाफ बताया गया था। एक अन्य घटना में राहुल गांधी को अपनी अफगानी गर्लफेंड के साथ देर रात में इंडिया गेट से जनपथ मोटर साइकिल ड्राइविंग का लुत्फ उठाते भी देखा गया था। वो अफगानी लड़की भी अफगानिस्तान के एक प्रभावशाली परिवार से ताल्लुक रखती है। सोनिया गांधी ने राहुल के उस रिश्ते को भी नकार दिया था। सोनिया गांधी राहुल के भविष्य को लेकर काफी चिंतित रहती हैं। वही प्रशांत किशोर से लेकर कांग्रेस के कई दिग्गज नेता लगातार गिर रहे पार्टी के ग्राफ पर सोनिया गांधी को आगाह कर चुके हैं।

हाल में जो चुनावी नतीजे आए है उससे कांग्रेस की चिंता बढ़ गई है। वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष के साथ उनकी चिंताओं का जिक्र भी किया है।

रुढ़ीवादी हैं सोनिया गांधी

rahul-sonia-gandhi-priyanka1

सूत्रों से एक और वजह का खुलासा हुआ है जिस कारण सोनिया गांधी अपनी बेटी प्रियंका गांधी को सक्रिय राजनीति में नहीं जाने देना चाहती। दरअसल सोनिया गांधी एक इटैलियन कैथोलिक हैं और इटैलियन कैथोलिक मान्यता के मुताबिक बेटे से ज्यादा बेटी को तव्जजो देना मुनासिब नहीं होता है। कैथोलिक लोग पुरुष प्रधान परिवार में भरोसा रखते हैं। शायद इस वजह से भी सोनिया गांधी प्रियंका गांधी को एक्टिव पॉलिटिक्स में जाने की इजाजत नहीं दे रही हैं। सोनिया गांधी हर हाल में राहुल गांधी को आगे बढ़ता हुआ देखना चाहती हैं। यही वजह है कि पार्टी आजादी के बाद से सबसे बुरे दौर से गुजर रही है और कांग्रेस नेताओं की मांग के वाबजूद सोनिया गांधी ने प्रियंका को सक्रिय राजनीति में जाने की इजाजत नहीं दी है।