छात्रों के लिए ये खबर है राहत भरी, जरूर पढ़े

चुनाव आयोग का कहना है कि चुनाव और परिक्षा की तारिख के टकराव को लेकर काम शुरू कर दिया गया है...

छात्रों के लिए ये खबर है राहत भरी, जरूर पढ़े

भारत के पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर अब राज्य के छात्रों और उनके अभिभावकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। चुनाव आयोग का कहना है कि चुनाव और परिक्षा की तारिख के टकराव को लेकर काम शुरू कर दिया गया है। इस पर संज्ञान लिया जा रहा है कि ये दोनों तारिखे आपस में न टकराएं और छात्रों को कोई परेशानी न हो।

बता दें कि पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चुनाव आयोग ने छात्रों की परेशानी पर गौर करते हुए पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर, गोवा और उत्तर प्रदेश को खत लिखा है। जिसमें लिखा गया है कि राज्यों को परीक्षा की तारीख तय करने से पहले चुनाव आयोग से परामर्श करने का निर्देश दिया गया है।

वहीं अभी तक इन राज्यों में चुनाव आयोग की ओर से चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया गया है। लेकिन अंदाजा लगाया जा रहा है कि फरवरी से अप्रैल तक वोटिंग की तारीख रखी जा सकती है।

जबकि परीक्षा की तारीख भी इन्हीं महीनों में रखी जाती है लेकिन चुनाव आयोग नहीं चाहता कि एग्जाम और चुनाव की तारीख आपस में टकराएं। अगर दोनों तारिखे आपस में टकराती है तो  इससे इलेक्शन का काम करने में मुश्किल आ सकती है।




साथ ही चुनाव आयोग इलेक्शन के वक्त ही स्कूल की इमारतों में पोलिंग बूथ बनवाता है और शिक्षकों  डयूटी भी इलेक्शन में लगाई जाती है। दोनों तारिखे आपस में न टकराएं चुनाव आयोग की इस पहल से छात्रों और उनके अभिभावकों को भी राहत मिलेगी। चुनाव आयोग अब जल्द ही पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों की घोषणा करेगा।