अपने मूल भार वर्ग में वापसी करेंगी 'मैरीकॉम'

स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने लाइट फ्लाइवेट के 48 किग्रा भार वर्ग में लौटने का फैसला किया।

अपने मूल भार वर्ग में वापसी करेंगी

ओलंपिक कांस्य पदक विजेता देश की स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने लाइट फ्लाइवेट के 48 किग्रा भार वर्ग में लौटने का फैसला किया है।

मैरीकॉम ने कहा कि मैंने लाइट फ्लाईवेट में फिर से खेलने का फैसला किया है क्योंकि यह मेरा मूल भार वर्ग है। मैं इस वर्ग में खेलने में बहुत सहज महसूस करती हूं। इस वर्ग में खेलने के लिए मुझे अपने शरीर को तकलीफ नहीं देनी होगी। मैं एक बार फिर बहुत सकारात्मक महसूस कर रही हूं और देखते है कि मैं अब क्या करूंगी।

ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ 2020 टोक्यो ओलंपिक में दो और वजन वर्गों को शामिल करने का प्रयास कर रहा है।

मणिपुर की 33 साल की मैरीकॉम को उनके शानदार करियर के लिए आईबा की 70 वीं वर्षगांठ पर 20 दिसंबर को लीजेंड पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। मैरीकॉम रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी थीं और ऐसे में यह पुरस्कार निश्चित रूप में उनका मनोबल बढ़ाएगा।

पांच बार विश्व चैंपियन मैरीकॉम का कहना है कि मेरे अंदर का जज्बा वापस आ गया है। मैं अभ्यास कर रही हूं और मैं प्रतिस्पर्धी महसूस कर रही हूं। जब मैं ओलंपिक में भाग नहीं ले सकीं तो मुझे इससे दुख हुआ। लेकिन अब मैं इससे उबर गई हूं और अपना सर्वश्रेष्ठ करने के लिए वापस आ गई हूं।

मैरीकॉम 2012 के लंदन ओलंपिक के बाद फ्लाइवेट के 51 किग्रा भार में उतरी थी। मैरीकॉम ने 2014 के एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था।

स्टार मुक्केबाज ने कहा, 'मुझे लगता है कि आईबा एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में लाइट फ्लाईवेट को शामिल करेगा। इसके अलावा यह ओलंपिक में भी शामिल किया जा सकता है इसलिए मुझे इससे काफी उम्मीदें हैं।'