अमेठी में मौत का मंजर, एक ही परिवार के 11 सदस्यों की हत्या

अमेठी में एक ही परिवार के ग्यारह लोगों की हत्या हुई है। जिसमे 10 लोगों का गला काटा गया है। वही परिवार के मुखिया की लाश फंदे से लटकी हुई मिली है।

अमेठी में मौत का मंजर, एक ही परिवार के 11 सदस्यों की हत्या

अमेठी में एक ही परिवार के ग्यारह लोगों की हत्या हुई है।  जिसमे 10 लोगों का गला काटा गया है। वही परिवार के मुखिया की लाश फंदे से लटकी हुई मिली है। शुकुलबाजार थाना क्षेत्र के महोना पश्चिम गांव में मंगलवार की रात एक ही परिवार के ग्यारह सदस्यों की हत्या कर दी गई। दस सदस्यों की हत्या धारदार हथियार से गला रेतकर की गई , जबकि परिवार के मुखिया का शव फांसी के फंदे से लटकता पाया गया। पता चला है पहले परिवार के सदस्यों को बेहोशी की दवा दी गई। उसके बाद उनकी गला काटकर हत्या की गई। हालांकि मौके से बेहोशी की दवा दिए जाने के साक्ष्य नहीं मिले हैं। शुकुलबाजार थाना क्षेत्र के महोना पश्चिम गांव निवासी जमालुद्दीन (45) कस्बे में ही बैट्री रिपेयरिंग की दुकान करता था। बुधवार की सुबह पुलिस को जानकारी मिली कि उसके परिवार के सदस्यों की हत्या कर दी गई है। पुलिस जब जमालुद्दीन के घर में दाखिल हुई तो उसके होश उड़ गए। घर के एक कमरे में हुश्ना बानो (32), रूबीना बानो (17), तहसीम बानो (9), मरियम बानो (8), महक बानो (7), निगार फातिमा (6), सानिया (5), उजमा (2) और करीब 17 वर्षीया अफसर बानो के शव एक कमरे में इधर-उधर पड़े थे। सभी की धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या की गई थी। वहीं घर की छत पर आफरीन बानो (18) का शव मिला। उसका भी गला रेता गया था। छत पर ही एक कमरे में परिवार के मुखिया जमालुद्दीन का शव फांसी के फंदे से लटकता मिला। उधर जमालुद्दीन की पत्नी जाहिदा और भतीजी तबस्सुम गंभीर हालत में पड़ी मिलीं। पुलिस ने दोनों को सीएचसी जगदीशपुर में भर्ती कराया है। महोना में जमालुद्दीन के साथ ही उसके बड़े भाई का भी परिवार भी रहता था। भाई की करीब दो वर्ष पहले मौत हो चुकी है। गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती पत्नी जाहिदा का कहना है कि उसके पति ने परिवार के सदस्यों की हत्या करने के बाद फांसी लगा लिया।....... ग्रामीणों में आक्रोश, मीडियाकर्मी की गाड़ी फूंकीमहोना पश्चिम में हत्याकांड के बाद पीड़ित परिवार के घर के बाहर बुधवार को भारी भीड़ जमा थी। अचानक भीड़ का आक्रोश फूट पड़ा। भीड़ ने एक मीडिया कर्मी के वाहन में आग लगाने के साथ उसकी पिटाई कर दी। इसके बाद लोगों ने कस्बे में रोड जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। आक्रोशित ग्रामीण प्रदेश स्तरीय अफसरों को बुलाने पर अड़े थे।

https://twitter.com/ANINewsUP/status/816499947327528960

बवाल बढ़ता देख कस्बे के दुकानदारों ने अपनी दुकानों के शटर गिरा दिये। डीएम और अन्य अधिकारियों ने भारी फोर्स की मौजूदगी में लोगों को समझा-बुझाकर जाम खुलवाया।जाहिदा ने कहा कि पति जमालुद्दीन ने ही सभी का गला काटा गौरीगंज। एसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि जीवित बची जमालुद्दीन की पत्नी जाहिदा बानो ने बताया है कि घटना वाली रात लगभग साढ़े आठ बजे उसके पति ने सभी सदस्यों को एक दवा पिलाई थी। उसने कहा था कि यह दवा पीने के बाद किसी को कोई रोग नहीं होगा। दवा पीने के बाद सभी सदस्य सो गये थे। जाहिदा की मानें तो परिजनों के सो जाने के बाद उसके पति ने ही सबकी गला रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद वह खुद फांसी के फंदे पर झूल गया। एसपी ने बताया कि मौका-ए-वारदात से दवा की कोई शीशी या अन्य साक्ष्य नहीं मिले हैं। आला कत्ल के रूप में दो चाकू मिले हैं। फिंगर प्रिंट विशेषज्ञों की टीम को जांच के लिए बुलाया गया है। उधर आईजी जोन ए सतीश गणेशन ने मौका मुआयना किया। उन्होंने डीआईजी से पूरे मामले की जानकारी ली। सभी शवों का सुलतानपुर में पोस्टमार्टम कराया गया है।