×

500 किलो वजनी महिला का मुंबई में इलाज, बनाया जाएगा नया अस्पताल

मुंबई के सैफी हॉस्पिटल ने 500 किलो की महिला के इलाज के लिए एक नया ‘अस्पताल’ बनाना किया शुरू, मिस्र की रहने वाली इमान अहमद की सर्जरी इसी हॉस्पिटल में होगी।

मुंबई के चरणी रोड पर स्थित सैफी हॉस्पिटल ने 500 किलो की दुनिया की सबसे भारी महिला के इलाज के लिए एक नया ‘अस्पताल’ बनाना शुरू कर दिया है। मिस्र की रहने वाली इमान अहमद की सर्जरी इसी हॉस्पिटल में होगी। 3000 स्क्वेयर फुट में बनने वाले इस हॉस्पिटल में एक अॉपरेशन थियेटर, आईसीयू, डॉक्टरों कमरा, दो रेस्ट रूम, एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग रूम और साथ रहने वाले लोगों का कमरा होगा। इसे अस्पताल के पीछे वाली जगह के ग्राउंड फ्लोर पर बनाया जा रहा है।

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, इस अस्पताल को बनाने के लिए दो करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। इसे एक ‘बेड का अस्पताल’ भी कहा जा रहा है। इसमें गेटों से लेकर बेड तक सब कुछ इमान अहमद के वजन को ध्यान में रखते हुए डिजाइन हो रहा है।

इमान के इलाज के बाद 24 घंटे सैफी हॉस्पिटल के कंसलटेंट बेरिएट्रिक सर्जन डॉ. मुफाज्जल लकडावाला, एक कार्डियोलॉजिस्ट, एक कार्डिक सर्जन, एक एंडोक्राइनोलॉजिस्ट, छाती का डॉक्टर, दो इंटेन्टिविस्ट्स और तीन एनेस्थेटिस्ट उसकी देखभाल के लिए मौजूद रहेंगे।

गौरतलब है कि 36 साल की इमान पिछले 25 वर्षों से अपने घर से बाहर नहीं निकली हैं। बिस्तर से न हिल पाने के कारण उन्हें डायबीटीज, अस्थमा, हायपरटेंशन, फेफड़ों की समस्या और अवसाद से भी जूझना पड़ रहा है। इससे पहले डॉ. लकडावाला के एक ट्वीट के कारण इमान के इलाज के खर्च के लिए अॉनलाइन कैंपेन चलाया गया था, ताकि उसे मुंबई लाया जा सके। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी डॉ.लकडवाला से इमान को भारत लाने में हर मुमकिन मदद का वादा किया था।

डॉ.लकडवाला ने यह तो नहीं बताया कि इमान मुंबई कब आएगी, लेकिन लकडवाला ने कहा कि उसकी सर्जरी की सारी तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इमान की सर्जरी मुफ्त की जाएगी और उसके परिवार को इलाज के बाद का कोई खर्चा भी नहीं उठाना पड़ेगा। उसे करीब 6 महीने इस अस्पताल में रहना पड़ेगा। फिलहाल डॉ.लकडवाला सभी एयर एंबुलेंस और कमर्शियल एयरलाइंस के संपर्क में हैं ताकि इमान को मुंबई लाया जा सके। लेकिन बुधवार तक इस बारे में कोई सूचना नहीं थी कि अस्पताल की किसी से बात बनी या नहीं। जो भी विमान उसे लेकर भारत आएगा उसे अपने बैठने वाली सीटों में बदलाव करना पड़ेगा। फिलहाल काहिरा से यहां तक की कोई सीधी फ्लाइट नहीं है और प्राइवेट एयरलाइंस के मालिकों ने उसे भारत लाने में हाथ खड़े कर दिए हैं।

Top