AAP छाेड़ भाजपा में जा सकतें हैं कुमार विश्वास

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास की जल्‍द ही बीजेपी में शामिल होने की कयास लगाया जा रहा हैं। इस सिलसिले में उनकी बीजेपी से बातचीत चल रही है। दोनों पक्षों के बीच सहमति बनने के बाद एक-दो दिनों में इसका एलान हो सकता है।

AAP छाेड़ भाजपा में जा सकतें हैं कुमार विश्वास

आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास की जल्‍द ही बीजेपी में शामिल होने की कयास लगाया जा रहा हैं। बतादें विश्‍वास गाजियाबाद की साहिबाबाद सीट से आगामी चुनाव लड़ना चाहते हैं। इस सिलसिले में उनकी बीजेपी से बातचीत चल रही है। दोनों पक्षों के बीच सहमति बनने के बाद एक-दो दिनों में इसका एलान हो सकता है। उल्लेखनीय है कि, इससे पहले विश्वास ने आप के टिकट पर अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी और स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव लड़ा था, लेकिन वे हार गए थे। सूत्राें के हवाले मिल रही जानकारी के मुताबिक इस मामले काे लेकर कुमार विश्वास भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेंगे। भाजपा के सूत्रों ने बताया कि कुमार विश्वास के साथ बातचीत आखिरी फेज में है। माना जा रहा है कि इस बारे में औपचारिक एलान से पहले विश्वास बीजेपी के लखनऊ ऑफिस में अमित शाह से मुलाकात कर सकते हैं।


आप से साइडलाइन किए गए विश्‍वास?
विश्वास पिछले कुछ महीनों से बीजेपी नेताओं के साथ नजर आ रहे हैं। उसी समय से ऐसे कयास लगाए जाने लगे थे कि वह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। हाल ही में पंजाब में 'आप' की ओर से जारी स्टार प्रचारकों की लिस्‍ट में भी कुमार विश्वास को जगह नहीं दी गई थी। वह आम आदमी पार्टी की तरफ से आयोजित पंजाब और गोवा की रैलियों में भी नजर नहीं आ रहे हैं।


राजनाथ के बेटे की भी इस सीट पर नजर
सूत्रों के मुताबिक, गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे और यूपी बीजेपी के जनरल सेक्रेटरी पंकज सिंह की भी साहिबाबाद सीट पर नजर है। हालांकि, राजनाथ ने शाह को आश्वासन दिया है कि उनके हितों को सुरक्षित रखा जाएगा। सूत्रों की मानें तो पंकज सिंह को चंदौली या नोएडा सीट से चुनाव लड़ाया जा सकता है। 2012 के विधानसभा चुनाव में अमरपाल शर्मा ने बीएसपी टिकट पर साहिबाबाद से चुनाव जीता था।


साहिबाबाद सीट ही क्‍यों?
कहा जा रहा है कि कुमार गाजियाबाद में रहते हैं। साहिबाबाद सीट दिल्‍ली के पास है। इस वजह से वहां के आसपास के एरिया में 'आप' का अच्‍छा वोट बैंक है। ऐसे में अगर विश्‍वास साहिबाबाद से चुनाव लड़ते हैं तो 'आप' का कुछ वोट बीजेपी के पास जा सकता है।