अखिलेश ने ठुकराया मुलायम के सुलह का फॉर्मूला

समाजवादी पार्टी में पिछले कई दिनों से जारी घमासान खत्म होने के आसार दिखने के बाद फिर सुलह का मामला अटकता दिख रहा है।

अखिलेश ने ठुकराया मुलायम के सुलह का फॉर्मूला

समाजवादी पार्टी में पिछले कई दिनों से जारी घमासान खत्म होने के आसार दिखने के बाद फिर सुलह का मामला अटकता दिख रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लखनऊ में मंंगलवार को बाप-बेटे की करीब पौने 2 घंटे तक बंद दरवाजे के पीछे मुलाकात चली।

पौने 2 घंटे तक चली मुलायम-अखिलेश की मीटिंग

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक मुलायम सिंह ने अखिलेश के सामने सुलह का फॉर्मूला रखा था, जिसमें अखिलेश को उन्होंने भरोसा दिलाया कि चुनाव जीतने पर वही सीएम होंगे। वहीं मुलायम ने कहा कि सभी पावर तुम रख लो, लेकिन अध्यक्ष मुझे रहने दो। हालांकि सीएम अखिलेश यादव इस फॉर्मूले पर राजी नहीं हुए। अखिलेश ने कहा कि अगर मैंने अध्यक्ष पद छोड़ दिया तो फिर अमर सिंह कोई भी फैसला करा सकते हैं।

समाजवादी पार्टी में पिता और पुत्र के बीच जंग थमने का नाम नही ले रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुलायम सिंह यादव सोमवार को चुनाव आयोग गए थे और 'साइकिल' पर अपना दावा ठोका था। मुलायम सिंह ने कहा था कि पार्टी सिंबल पर फैसला आयोग करेगा। हमने अपनी बात चुनाव आयोग के समक्ष रख दी है। वहीं दूसरी तरफ अखिलेश गुट ने भी चुनाव आयोग से मिलकर पार्टी सिंबल पर अपना दावा पेश किया था।

अखिलेश को कुछ लोग बहका रहे हैं- मुलायम

चुनाव आयोग के सामने अपनी बात रखने के बाद मुलायम सिंह ने कहा था कि पार्टी सिंबल पर फैसला आयोग करेगा। हम एक पत्र जारी करेंगे उसी के आधार पर उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से चुनाव की तैयारियों में जुटने को कहा है। मुलायम सिंह ने कहा था कि कुछ लोग अखिलेश को बहका रहे हैं। अखिलेश बेटा है क्या किया जा सकता है जल्द सभी मतभेद सुलझ जाएंगे।

आयोग के सामने मुलायम खेमे ने रखी ये बातें..

पार्टी संविधान के मुताबिक राष्ट्रीय अधिवेशन में राष्ट्रीय अध्यक्ष को हटाया नहीं जा सकता है। राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाने के लिए 30 दिन का नोटिस देना जरूरी है जिसका पालन 1 जनवरी के अधिवेशन में नहीं किया गया। मुलायम सिंह को अध्यक्ष पद से हटाने के लिए कोई प्रस्ताव पास नहीं किया गया तो नए अध्यक्ष के चुनाव का सवाल ही नहीं उठता है।

अखिलेश गुट ने की आयोग से मुलाकात

इस बीच मुलायम के बाद अखिलेश गुट की तरफ से नरेश अग्रवाल और रामगोपाल यादव चुनाव आयोग पहुंचे थे। वही इससे पहले अखिलेश खेमे के नीरज शेखर, अक्षय यादव, सुरेंद्र नागर, अभिषेक मिश्रा, नीरज शेखर, किरनमय नंदा भी चुनाव आयोग गए थे। वहीं आयोग से मुलाकात के बाद रामगोपाल यादव ने कहा था कि हमनें अपनी बात आयोग के सामने रख दी है और आयोग से जल्द फैसला लेने का आग्रह किया है।