यूपी: भाजपा का आराेप है, मायावती ने सुप्रीम काेर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है

बसपा सुप्रीमाे मायावती पर भाजपा का आराेप है कि मायावती ने सुप्रीम काेर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है। इस मामले काे लेकर यूपी प्रदेश के भाजपा ने मांग किया है कि बसपा पार्टी की मान्यता रद्द किया जाए।

यूपी: भाजपा का आराेप है, मायावती ने सुप्रीम काेर्ट के आदेश का उल्लंघन किया है

उत्तर प्रदेश चुनाव काे लेकर सभी दलाें ने अपनी पार्टी के उम्मीदवाराें की लिस्ट जारी करने के हाेंड़ में बसपा सुप्रीमो मायावती परेशानी में आ गयी हैं। प्रदेश  भाजपा के एक पदाधिकारी ने चुनाव आयोग से यह शिकायत की है कि मायावती ने टिकटों के वितरण के समय जिस तरह से धर्म और जाति का विवरण दिया वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन है।

भाजपा सदस्य नीरज शंकर सक्सेना ने बीते शनिवार को निवार्चन आयोग से मायावती की शिकायत की है। उल्लेखनीय है कि 24 दिसंबर और तीन जनवरी को मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस करके अपनी पार्टी द्वारा जाति तथा धर्म के आधार पर टिकट बांटे जाने का विवरण दिया था।

बता दे कि कुछ ही दिनों पहले सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश दिया था कि धर्म, जाति, भाषा या वर्ग के आधार पर वोट मांगना गलत है। इसलिए भाजपा नेता ने यह मांग की है कि एक पार्टी के रूप में बसपा की मान्यता रद्द की जाये।

मायावती ने अपने उम्मीदवारों की सूची जारी करते वक्त इस बात का सिलसिलेवार जिक्र किया था कि उन्होंने किस जाति और धर्म के लोगों को कितने टिकट दिये।