नारदा न्यूज़ स्टिंग: कोलकत्ता HC ने केंद्रीय एजेंसी से जांच कराने को कहा

2016 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले जो एक स्टिंग टेप जारी किया गया था जिसमें टीएमसी नेताओं, सांसदों और मंत्रियों को पैसा लेते हुए दिखाया गया है।

नारदा न्यूज़ स्टिंग: कोलकत्ता HC ने केंद्रीय एजेंसी से जांच कराने को कहा

रोज वैली घोटाले के मामले में सांसद सुदीप बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस को एक और झटका लगा है। शुक्रवार को कलकत्ता हाईकोर्ट ने नारद स्टिंग मामले में केंद्रीय एजेंसियों द्वारा जांच कराने को कहा है।

2016 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले एक स्टिंग टेप जारी किया गया था जिसमें टीएमसी नेताओं, सांसदों और मंत्रियों को पैसा लेते हुए दिखाया गया है।

पश्चिम बंगाल सरकार ने पहले कहा था कि नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई जांच की जरूरत नहीं है। पश्चिम बंगाल के महाधिवक्ता का कहना था कि नारद न्यूज़ को सीईओ मैथ्यू सैमुअल यह साबित नहीं कर सके है कि किसी भी तृणमूल कांग्रेस के नेता ने रिश्वत की मांग की थी।

न्यायमूर्ति निशिता म्हात्रे ने कहा कि इस मामले की जांच की गई और भाजपा नेता को जेल भेज दिया गया। बंगारू लक्ष्मण को 2012 में भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत दोषी करार दिया गया जो तहलका जांच में रिश्वत लेते पकड़ा गए थे।

सीबीआई ने पिछले हफ्ते रोज वैली चिट फंड घोटाले में 15,000 करोड़ रुपये में कथित संलिप्तता के लिए तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंदोपाध्याय को गिरफ्तार किया है।