दिल्ली के नए उपराज्यपाल ने लौटाई डीटीसी बसों का किराया घटाने की फाइल

दिल्ली में एक बार फिर नए उपराज्यपाल और सरकार के बाच जंग शुरू हो गई है। नए उपराज्यपाल ने सीएम केजरीवाल की उस फाइल को लौटा दिया है जिसमें केजरीवाल सरकार ने डीटीसी वसों के किराए में कटौती की थी...

दिल्ली के नए उपराज्यपाल ने लौटाई डीटीसी बसों का किराया घटाने की फाइल

दिल्ली में एक बार फिर नए उपराज्यपाल और सरकार के बाच जंग शुरू हो गई है। नए उपराज्यपाल ने सीएम केजरीवाल की उस फाइल को लौटा दिया है जिसमें केजरीवाल सरकार ने डीटीसी वसों के किराए में कटौती की थी। इसमें दिल्ली सरकार ने उपराज्यपाल को डीटीसी बसों के किराए में 75 फीसदी तक घटाने का प्रस्ताव दिया था।

आपको बता दें कि दिल्ली के परिवहन मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिसंबर में डीटीसी के किराए में कटौती की घोषणा की थी. जिसकी फाइल इस हफ्ते की शुरुआत में नए उपराज्यपाल अनिल बैजल को भेजी थी। दिल्ली सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि एसी बसों का किराया 10 रुपये और नॉन एसी बसों का किराया 5 रुपये किया जाए। ये घोषणा दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर की गई थी।

अनिल बैजल ने प्रस्ताव वापस लौटाने पर ये तर्क दिए हैं। उन्होंने कहा कि वित्त मंत्रालय से प्रस्ताव को लेकर कोई चर्चा नहीं की गई। साथ ही उन्होंने कहा कि पहले ही से घाटे में चल रही डीटीसी की मौजूदा हालत पर भी ध्यान देना चाहिए था। आगे इसके लिए वित्त मंत्रालय से भी प्रस्ताव पर उनकी प्रतिक्रिया ली जाएगी। अनिल ने आगे कहा कि दिल्ली सरकार पूरे प्रस्ताव पर फिर से विचार करे ताकि सही फैसला लिया जा सके।

गौरतलब हो कि दिल्ली सरकार ने हर रूट पर एसी बसों का किराया 10 रुपये, नॉन एसी और कलस्टर बसों का किराया सभी रूट के लिए 5 रुपये करने की घोषणी की थी। वहीं नॉन एसी और एसी बसों के डेली पास एक महीने तक 20 रुपये में मिलने की बात भी कही थी। दिल्ली सरकार के मुताबिक ये कदम प्रदूषण की समस्या से लड़ने के लिए उठाया गया था। राजधानी में बढ़ते प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए सरकार ने बसों के किराए में कटौती का प्रस्ताव दिया था।