नशे में महिला को देख उतारे कपड़े, पुलिस ने केस नहीं किया दर्ज

बेंगलुरु में नए साल के जश्न में डूबी महिलाओं को नशे में देख मनचलों ने उतारे महिला के कपड़े, सबूत होन के बावजूद पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया।

नशे में महिला को देख उतारे कपड़े, पुलिस ने केस नहीं किया दर्ज

31 दिसंबर की रात बेंगलुरु के एमजी रोड और ब्रिगेड रोड पर नए साल का वेलकम करने के लिए हजारों लोग जुटे। इनमें महिलाएं-बच्चे भी शामिल थे लेकिन अचानक रात 11 बजे सड़कों पर हुड़दंगियों ने महिलाओं को छूना और उन पर भद्दे कमेंट्स करना शुरू कर दिया। यह सब तब हुआ जब पूरे इलाके में 1500 पुलिसवाले तैनात थे। इस पूरे मामले की तस्वीरें सामने आने के बाद भी कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है।

बेंगलुरु मिरर के अनुसार, हर साल की तरह इस साल भी इलाके में हजारों लोग न्यू इयर सेलिब्रेशन के लिए इकट्ठे होते हैं। हालांकि, पुलिस ने पहले दावा किया था कि इलाके में किसी भी घटना से निपटने के लिए उन्होंने पूरी व्यवस्था की है।

उस वक्त सारी हदें पार हो गईं जब आधी रात कुछ बदमाश पार्टी में शामिल हुए और महिलाओं को जहां-तहां हाथ लगाने लगे, उन्हें छेड़ने लगे। स्थिति यह हो गई कि सेलिब्रेशन में आईं महिलाएं अपनी सैंडल्स उतार कर मदद के लिए भागने लगीं।

घटना की तस्वीर सामने आने के बाद भी पुलिस ने आधिकारिक तौर पर कहा है कि अभी तक एक भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। हैरानी की बात यह है कि शहर के डेप्युटी कमिशनर संदीप पाटिल जिनके अंदर ब्रिगेड रोड और एमजी रोड आता है, ने कहा कि महिलाओं ने पुलिस से मदद तो मांगी लेकिन वह इसलिए क्योंकि ये अपने परिवारवालों से अलग हो गईं थीं और उन्हें खोज नहीं पा रहीं थीं। उन्होंने बताया कि अभी तक छेड़छाड का कोई केस दर्ज नहीं किया गया है।

हालांकि, सड़कों पर तैनात पुलिसकर्मियों का कुछ और ही कहना है। चर्च स्ट्रीट पर तैनात एक महिला पुलिसकर्मी ने बताया कि कुछ बदमाशों ने एक महिला को नशे में देख उसके कपड़े उतार दिए और उसके साथ छेड़छाड़ की। पुलिस डिपार्टमेंट के मुताबिक एमजी रोड और ब्रिगेड रोड इलाके में करीब 1500 पुलिसकर्मी तैनात थे। महिला पुलिसकर्मी ने कहना है कि महिला को इस तरह की बेबस देखना बहुत परेशान करता है।