अमेरिका में एंट्री के लिए पाकिस्तानियों को करना होगा कड़ी जांच का सामना: डोनाल्ड ट्रंप

आतंकवाद को लेकर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हमेशा ही विरोधी बयान देते हैं। जिसकी वजह से वो हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं। इस बार भी ट्रंप ने पाकिस्तान के नागरिकों को लेकर कड़ा रूख इख्तियार करते हुए कहा कि पाकिस्तान से आने वाले नागरिकों को यहां आकर कड़ी जांच का सामना करना होगा...

अमेरिका में एंट्री के लिए पाकिस्तानियों को करना होगा कड़ी जांच का सामना: डोनाल्ड ट्रंप

आतंकवाद को लेकर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हमेशा ही विरोधी बयान देते हैं। जिसकी वजह से वो हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं। इस बार भी ट्रंप ने पाकिस्तान के नागरिकों को लेकर कड़ा रूख इख्तियार करते हुए कहा कि पाकिस्तान से आने वाले नागरिकों को यहां आकर कड़ी जांच का सामना करना होगा। ट्रंप का कहना है कि अफगानिस्तान, पाकिस्तान और सऊदी अरब उन देशों में शामिल है जहां के नागरिकों को अमेरिका आने के लिए वीजा का सामना करना पड़े। लोकिन इन देशों के नागरिकों को कड़ी जांच का सामना जरूर करना पड़ेगा।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप ने कहा कि हम हम कुछ देशों के लोगों को अमेरिका आने की मंजूरी नहीं दे रहे हैं। लेकिन अन्य देशों के लोगों की हम कड़ी जांच करेंगे। अमेरिका आना बेहद मुश्किल होगा। अभी तक यह बेहद आसान था। लेकिन अब यह बहुत, बहुत मुश्किल होने जा रहा है। हम इस देश में आतंकवाद नहीं चाहते हैं। बीते 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद यह ट्रंप का पहला साक्षात्कार था। जिसमें उनसे ओबामाकेयर से लेकर आव्रजन और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जैसे व्यापक विषयों पर बातचीत की गई।

ट्रंप ने कहा कि उनकी योजना कई मुस्लिम देशों के लोगों का अमेरिका में प्रवेश बंद करना है, क्योंकि दुनिया 'पूरी तरह अव्यवस्थित' हो गई है। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि यह मुसलमानों पर प्रतिबंध है। उन्होंने कहा कि नहीं, यह मुसलमानों पर प्रतिबंध नहीं, बल्कि उन देशों के लोगों पर प्रतिबंध है, जो आतंकवाद ग्रस्त हैं।

साथ ही ट्रंप का कहना है कि इन देशों के लोग अमेरिका आ रहे हैं और इससे समस्याएं गंभीर होती जा रही हैं। हमारे देश में पहले से ही पर्याप्त समस्याएं हैं। इन कई समस्याओं या कुछ समस्याओं के परिणाम तो घातक हो सकते हैं। ट्रंप ने उन देशों का नाम लेने से मना कर दिया, जिनके बारे में वह बात कर रहे थे, लेकिन कहा कि यूरोप ने उन लोगों को जर्मनी तथा अन्य देशों में आने की मंजूरी देकर भारी गलती की और आप सबको इसपर ध्यान देना है, क्योंकि जो भी वहां हो रहा है वह भयंकर मुसीबत है.