जनरल रावत का पाक को कड़ी चेतावनी, कहा आतंकवाद जारी रहा तो सर्जिकल स्ट्राइक से परहेज नहीं

सेना प्रमुख की पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी, सीमा पार से आतंकवाद जारी रहा तो सर्जिकल स्ट्राइक से परहेज नहीं...

जनरल रावत का पाक को कड़ी चेतावनी, कहा आतंकवाद जारी रहा तो सर्जिकल स्ट्राइक से परहेज नहीं

नवनियुक्त सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने मकर संक्रांति से एक दिन पूर्व साफ किया कि यदि पाकिस्तान शान्ति की कोशिश का सकारात्मक जवाब नहीं देता है तो और सर्जिकल स्ट्राइक से इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि भारत को ‘जवाबी कार्रवाई’ करने का अधिकार है।

 पत्रकारों से बातचीत में शुक्रवार को जनरल रावत ने कहा कि भारत को जम्मू कश्मीर में पाकिस्तानी जवाब का ‘इंतजार करो और देखो’ की जरूरत है। हालांकि उन्होंने माना कि छद्म युद्ध, उग्रवाद और आतंकवाद आने वाले वर्षों में भारत को उलझाए रखेगा। जनरल ने कहा कि दोनों पक्षों के डीजीएमओ ने एक दूसरे से बातचीत की है और वे नियंत्रण रेखा पर अमन एवं शांति चाहते हैं। दोनों अधिकारियों ने 23 नवंबर को बातचीत की थी जिसके बाद से नियंत्रण रेखा पर अपेक्षाकृत शांति है।


जब सेना प्रमुख से पूछा गया कि क्या नियंत्रण रेखा पर किये गए लक्षित हमले और म्यामांर में चलाए गए अभियान अब सिद्धांत के हिस्सा होंगे, सेना प्रमुख ने कहा, ‘हमने विरोधी से शांति स्वीकार करने को कहा है और यदि इस पेशकश का सकारात्मक जवाब नहीं मिलता है तो अभियान की यह प्रक्रिया (सर्जिकल स्ट्राइक) जारी रहेगी।’

जनरल रावत ने आगे कहा की हमारा मुख्य उद्देश्य शान्ति बहाली है। अगर हमारे विरोधी अमन चाहते है तो ठीक है लेकिन अगर उनके तरफ से कुछ किया जाता हैं तो भारतीय सेना चुप नहीं बैठेगी। रावत के अनुसार जम्मू और कश्मीर में पिछले कुछ समय में अशांति रही मगर सुरक्षा एजेंसियों ने अभी उसपर नियंत्रण पा लिया है। वे इस बात को सुनिश्चित करना चाहते है की घाटी में स्कुल और पर्यटन अच्छे से चले।

महिला सैनिकों को अग्रिम मोर्चे पर तैनात करने के बारे में जनरल बिपिन रावत ने अपनी प्रतिक्रया दी। उन्होंने कहा की युद्ध की स्थिति बेहद अलग होती है। युद्ध के मोर्चे पर जवान कई दिन बिना शौचालय और आश्रय की सुविधा के कठिन हालात में रहते हैं। यह महिलाओं के लिए सामान्य नहीं है, इसलिए फैसला उन्हें ही करना होगा की उन्हें अग्रिम मोर्चे पर तैनात होना है या नहीं।