महान अभिनेता ओम पुरी के निधन से शोक में डूबा बॉलीवुड, शाहरूख, अमिताभ समेत कई बड़ी हस्तियों ने जताया दुख

बॉलिवुड के महान अभिनेता और पद्मश्री ओम पुरी का शुक्रवार की सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 66 साल के थे। उनके निधन से फिल्म इंडस्ट्री में शोक छा गया है।

महान अभिनेता ओम पुरी के निधन से शोक में डूबा बॉलीवुड, शाहरूख, अमिताभ समेत कई बड़ी हस्तियों ने जताया दुख

बॉलिवुड के महान अभिनेता और पद्मश्री ओम पुरी का शुक्रवार की सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 66 साल के थे। उनके निधन से फिल्म इंडस्ट्री में शोक छा गया है। अभिनेत्री शबाना आज़मी ने ट्वीट करके बताया है कि ओम पुरी के पार्थिव शरीर को मुंबई के कूपर हॉस्पिटल पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया है। इसके बाद तीन बजे उनके शरीर को उनके घर ‘त्रिशूल’ पर अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। इसके बाद आज शाम 6 बजे मुंबई के ओशिवारा में ओम पुरी का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बता दें कि ओमपुरी न सिर्फ बॉलीवुड सिनेमा, बल्कि पाकिस्तानी, ब्रिटिश और हॉलिवुड फिल्मों में भी अपनी बेमिसाल अदाकारी के लिए जाने जाते रहे। उन्हें भारत सरकार की तरफ से पद्मश्री की उपाधि दी गई और उन्होंने 'आरोहण' और 'अर्धसत्य' के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल किया था।

फिल्मकार अशोक पंडित ने ट्विटर पर अपने करीबी मित्र ओमपुरी के निधन की जानकारी साझा की है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी ओम पुरी के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।

ओम पुरी के करीबी दोस्त और उनके साथ कई फिल्मों में स्क्रीन शेयर कर चुके अभिनेता अनुपम खेर ने लिखा कि ' मैं उन्हें 43 सालों से जानता था। मेरे लिए वह हमेशा ही एक महान अभिनेता और एक उदार व्यक्तित्व रहेंगे। दुनिया को उन्हें ऐसे ही याद रखना चाहिए।'इसके साथ ही बॉलीवुड के कई बड़े सितारों ने भी ओम पूरी की मौत पर शोक जताया है जैसे- शाहरूख खान, बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन समेत कई बड़ी हस्तियों ने शोक रखे।

ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 में हरियाणा के अम्बाला शहर में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने ननिहाल पंजाब के पटियाला से पूरी की। 1976 में पुणे फिल्म संस्थान से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ओमपुरी ने लगभग डेढ़ वर्ष तक एक स्टूडियो में अभिनय की शिक्षा दी। बाद में ओमपुरी ने अपने निजी थिएटर ग्रुप “मजमा” की स्थापना की।

ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी। वर्ष 1980 में रिलीज फिल्म “आक्रोश” ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई।