बाबर-3 का परीक्षण कर इतरा रहा "पाक", भारत के अग्नि-5 के आगे फेल है बाबर

पाकिस्तान ने परमाणु आयुध को 450 किलोमीटर तक ले जाने में सक्षम पनडुब्बी से दागी जाने वाली पहली क्रूज मिसाइल बाबर-3 का हिंद महासागर में सफल परीक्षण किया। पाकिस्तान भले ही बाबर-3 का सफल परीक्षण कर इतरा रहा हो, लेकिन वह भारत के अग्नि-5 का मुकाबला कभी नहीं कर सकता है।

बाबर-3 का परीक्षण कर इतरा रहा "पाक", भारत के अग्नि-5 के आगे फेल है बाबर

पाकिस्तान ने परमाणु आयुध को 450 किलोमीटर तक ले जाने में सक्षम पनडुब्बी से दागी जाने वाली पहली क्रूज मिसाइल बाबर-3 का हिंद महासागर में सफल परीक्षण किया। अंतरराष्ट्रीय मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक पाकिस्तानी सेना ने बाबर-3 नामक मिसाइल को पानी के अंदर ही चलते-फिरते मंच से छोड़ा गया जिसने बिल्कुल सटीकता से निशाना पर प्रहार किया।

बता दें कि बाबर-3 एसएलसीएम में पानी के अंदर ही नियंत्रित प्रणोदन, उन्नत मार्गदर्शन और नौवहन विशेषता आदि समेत अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियां हैं। इस मिसाइल में शत्रु रडार और वायु रक्षा से बच निकलने जैसी क्षमता है। बाबर-3 एसएलसीएम जमीन पर हमला करने दौर में विभिन्न प्रकार के भारों को ले जाने में सक्षम हैष बाबर-3 परमाणु हमले की स्थिति में पलटवार करने की भरोसेमंद क्षमता है।

पाकिस्प्रतान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने बाबर-3 के सफल परीक्षण पर सेना को बधाई दी। उन्होंने कहा कि बाबर-3 का सफल परीक्षण पाकिस्तान की प्रौद्योगिकी तरक्की और आत्मनिर्भरता का एक परिचायक है। नवाज ने कहा कि पाकिस्तान हमेशा शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की नीति पर चलता है लेकिन यह परीक्षण भरोसेमंद न्यूनतम प्रतिरोध की नीति की दिशा में एक कदम है।

पाकिस्तान भले ही बाबर-3 का सफल परीक्षण कर इतरा रहा हो, लेकिन वह भारत के अग्नि-5 का मुकाबला कभी नहीं कर सकता है।

अग्नि-5  में 5000 किलोमीटर मारक क्षमता है और 1.5 टन परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम है। भारत ने वर्ष 2008 में पनडुब्बी से परमाणु क्षमता वाले मिसाइल का सफल परीक्षण किया था और फिर वर्ष 2013 में क्रूज मिसाइल का भी सफल परीक्षण किया था। इसके साथ ही पिछलों दिनों भारत ने परमाणु क्षमता से लैस अग्नि-4 और अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण किया था।