अखनूर में ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ में मारे 30 सैनिक, हाफिज सईद ने किया दावा

लश्कर-ए-तोयबा और जमात-उद-दावा के मुखिया हाफिज सईद ने कहा कि सोमवार को जम्मू-कश्मीर के अखनूर स्थित जनरल रिजर्व इंजीनियरिंग फोर्स (जी.आर.ई.एफ.) के कैंप पर हुआ आतंकी हमला उसके लड़ाकों ने किया था...

अखनूर में ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ में मारे 30 सैनिक, हाफिज सईद ने किया दावा

लश्कर-ए-तोयबा और जमात-उद-दावा के मुखिया हाफिज सईद ने कहा कि सोमवार को जम्मू-कश्मीर के अखनूर स्थित जनरल रिजर्व इंजीनियरिंग फोर्स (जी.आर.ई.एफ.) के कैंप पर हुआ आतंकी हमला उसके लड़ाकों ने किया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सईद ने यह दावा भी किया कि उसने 30 लोगों को इस हमले में मार गिराया है।

हालांकि इंडियन आर्मी ने उसके दावे को बकवास करार दिया है। अखनूर में जी.आर.ई.एफ . कैंप पर जो हमला हुआ था उसमें 3 कर्मी मारे गए थे। यह कैंप अंतर्राष्ट्रीय सीमा से सिर्फ 2 किलोमीटर की दूरी पर है और हमले के समय कैंप में 10 मजदूर थे। सईद ने यह दावा पी.ओ.के. के मुजफ्फराबाद में हुई एक रैली में किया।

हाफिज सईद का जो ऑडियो टेप आया उसमें वह कह रहा है कि ‘‘4 युवा लड़के कल के दिन से एक दिन पहले जम्मू के अखनूर के कैंप में दाखिल हुए। मैं अभी के बारे में बात कर रहा हूं, यह कोई पुरानी बात नहीं है। यह सिर्फ 2 दिन पहले घटी है।’’ उसने दावा किया कि उन्होंने 10 कैंपों में मौजूद 30 सैनिकों को मार डाला। इसके बाद वे सुरक्षित वापस लौट आए, उनको एक भी खरोंच नहीं आई। हाफिज ने कहा, ‘‘यह होती है सर्जिकल स्ट्राइक।’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उसने कहा कि लाइन ऑफ कंट्रोल के पार सर्जिकल स्ट्राइक की बात करके उन्होंने दुनिया से झूठ कहा है। मोस्ट वांटेड आतंकी हाफिज ने कहा, ‘‘अगर उसे एक मौका मिले तो उसके मुजाहिद्दीन बताएंगे कि सर्जिकल स्ट्राइक क्या होती है। एक ऐसी जगह जम्मू जिसके बारे में भारत कहता है कि कोई भी यहां दाखिल होने की हिम्मत नहीं रखता है, वहां पर यह सर्जिकल स्ट्राइक हुई है। कैंप को तबाह कर दिया गया और जला दिया गया।’’