भारत-यूएई ने बिना नाम लिए "PAK" पर साधा निशाना...

भारत और यूएई ने पाकिस्तान का नाम बिना नाम लिए कहा कि कुछ देश आतंकवाद फैलाने के लिए धर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसे कहीं से भी सही नहीं ठहराया जा सकता है।

भारत-यूएई ने बिना नाम लिए "PAK" पर साधा निशाना...

भारत और यूएई ने पाकिस्तान का नाम बिना नाम लिए कहा कि कुछ देश आतंकवाद फैलाने के लिए धर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसे कहीं से भी सही नहीं ठहराया जा सकता है। दोनों देशों ने आतंकवाद से निपटने के लिए 'जीरो टालरेंस पॉलिसी' अपनाने की बात कही है। उल्लेखनीय है कि इस बार गणतंत्र दिवस की परेड के मौके पर अबू धाबी के प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जाएद अल नाह्यां मुख्य अतिथि थे।

गुरुवार को भारत-यूएई ने साझा बयान जारी किया। जिसके मुताबिक, दोनों देश नफरत फैलाने और आतंकी मंसूबों को अंजाम देने वाले गुटों और देशों के खिलाफ मिलकर लड़ाई लड़ेंगे। प्रधानमंत्री मोदी और शेख मोहम्मद ने बुधवार को द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की थी। इसके बाद दोनों देशों ने डिफेंस, ट्रेड, सिक्युरिटी और एनर्जी जैसे अहम क्षेत्रों में एक दर्जन से ज्यादा समझौतों पर हस्ताक्षर किए। दोनों देशों ने आतंकवाद का खात्मा, इन्फॉर्मेशन साझा करने और कैपेसिटी बिल्डिंग में बढ़ते द्विपक्षीय सहयोग पर संतोष जताया। दोनों पक्षों ने भरोसा जताया कि ये प्रयास क्षेत्रीय और वैश्विक शांति और सुरक्षा में योगदान देंगे।

भारत ने जनवरी 2016 में पठानकोट में एयरफोर्स के ठिकाने और सितंबर 2016 में उड़ी में आर्मी कैंप पर आतंकी हमले के बाद यूएई के सपोर्ट की सराहना की। स्टेटमेंट में ये भी कहा गया कि मोदी और अल नाह्यां ने काबुल और कंधार में 10 जनवरी को हुए आतंकी हमलों की जोरदार निंदा की और दोषियों को कठघरे में लाने पर जोर दिया। मोदी ने इन हमलों में यूएई और अफगानिस्तान के नागरिकों की हुई मौत पर शोक जताया और घायल यूएई के डिप्लोमैट्स के जल्द ठीक होने की कामना की। दोनों देशों ने यूएन चार्टर और इंटरनेशनल कानूनों के मुताबिक, आतंकी नेटवर्कों, उनकी फंडिंग और एक्टिविटीज को खत्म करने की बात कही।

बुधवार को हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और शेख मोहम्मद की ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एक ऐसा वाकया घटा, जिसे लेकर मोदी थोड़े असहज दिखे। दरअसल, प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान नाह्यां करीब 3 मिनट तक अरबी में बोलते रहे, लेकिन उनकी बातों को कोई समझ नहीं सका। इसकी वजह ये थी कि ट्रैफिक जाम की वजह से इंटरप्रेटर सही वक्त पर कार्यक्रम में पहुंच नहीं पाया था।