भारत-चीन की जंग फिर हो सकती है: CIA

अमेरिका की खुफिया एजेंसी सेंट्रल इन्टेलिजेन्स एजेंसी (सीआईए) ने एक चौंका देने वाला खुलासा किया है। सीआईए का मानना है कि 1962 के युद्ध के बाद चीन एक बार फिर भारत पर हमला कर सकता है। एजेंसी का दावा है कि चीन तिब्बत, म्यांमार या फिर नेपाल-भूटान के रास्ते हमला करेगा।

भारत-चीन की जंग फिर हो सकती है: CIA

अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए ने एक चौंका देने वाला खुलासा किया है। अंतरराष्ट्रीय मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक सीआईए का मानना है कि 1962 के युद्ध के बाद चीन एक बार फिर भारत पर हमला कर सकता है। एजेंसी का दावा है कि चीन तिब्बत, म्यांमार या फिर नेपाल-भूटान के रास्ते हमला करेगा।

अंतरराष्ट्रीय मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक कई दौर की झड़पों के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा है। सीआईए ने हाल ही में कुछ गोपनीय दस्तावेज सार्वजनिक किए हैं। अमेरिकी खुफिया अफसर 1963 से चीन के भारत को लेकर रुख पर स्टडी कर रहे हैं। इसके साथ ही बीते महीनों में सीआईए, डिफेंस इंटेलिजेंस एजेंसी (डीआईए) और अमेरिकी खुफिया बोर्ड (यूएसआईबी) ने कई आकलन किए हैं। इसके मुताबिक चीन अपने पड़ोसी देशों पर हमला कर सकता है।

बता दें कि 1962 में हुए भारत-चीन युद्ध के 6 महीनों के भीतर ही डीआईए ने ‘द चाइनीज कम्युनिस्ट ग्राउंड थ्रेट टू इंडिया’ नाम से रिपोर्ट बनाई थी। इसमें चीन के नेपाल-भूटान और असम में नॉर्थ-ईस्टर्न फ्रंटियर एजेंसी (एनईएफए) के रास्ते लद्दाख में हमला करने की बात कही गई थी।

वहीं सीआईए का दावा है कि चीन लेह, जोशीमठ के उत्तरी हिस्से, नेपाल, एनईएफए और नॉर्थ असम में कब्जा कर सकता है। सीआईए और डीआईए की रिपोर्ट बताती है कि चीन का ऑपरेशन उसी स्थिति में बिगड़ेगा, जब लॉजिस्टिक्स में कुछ गड़बड़ हो या फिर मौसम उसका साथ न दे। यह भी कहा गया है कि हमले के लिए चीन 1 लाख 20 हजार जवानों को भेज सकता है। इसके साथ ही वह भारत पर एयरफोर्स से भी हमले की रणनीति बना सकता है।