कप्तानी छोड़कर पहली बार मीडिया के सामने हुए धोनी, कहा- कप्तानी छोड़ने का कोई दुख नहीं

इंडिया टीम के क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की वनडे और टी 20 की कप्तानी छोड़ने के 9 दिनों बाद महेंद्र सिंह धोनी पहली बार मीडिया के सामने आए। इसके साथ ही उन्होंने पहले वनडे से पहले धोनी ने एक बड़ा खुलासा भी किया...

कप्तानी छोड़कर पहली बार मीडिया के सामने हुए धोनी, कहा- कप्तानी छोड़ने का कोई दुख नहीं

इंडिया टीम के क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की वनडे और टी 20 की कप्तानी छोड़ने के 9 दिनों बाद महेंद्र सिंह धोनी पहली बार मीडिया के सामने आए। इसके साथ ही उन्होंने पहले वनडे से पहले धोनी ने एक बड़ा खुलासा भी किया।

वनडे से पहले धोनी का खुलासा
धोनी ने कहा कि भले ही मैंने अभी कप्तानी छोड़ी लेकिन मानसिक तौर पर तो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई सीरीज ही मेरी आखिरी सीरीज थी, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वो बस सहीं वक्त का इंतजार कर रहे थे कि कब विराट टैस्ट टीम की कप्तानी करते हुए खुद को सारे दबाव से मुक्त रखते हुए अपना परफॉर्मेंस दे और मैं उसके लिए वनडे और T-20 की कप्तानी खाली कर सकूं। यानी माही ने काफी पहले ही इस फैसले के बारे में सोचना शुरू कर दिया था।

धोनी ने कहा विराट मुझसे बेहतर कप्तान होंगे 
विराट की कप्तानी में अब तक की सबसे सफल टीम बनकर दिखाएगी। धोनी ने भारत और इंगलैंड के बीच रविवार को खेले जाने वाले पहले वनडे से पूर्व शुक्रवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुझे यकीन है कि भारतीय टीम विराट की कप्तानी में अब तक की सबसे सफल टीम बनकर दिखाएगी और मुझसे ज्यादा मैच जीतेगी। उनकी टीम निश्चित ही तीनों प्रारूपों में कमाल करेगी।

टैस्ट के अलावा और  20 में एक ही कप्तान होना चाहिए
धोनी ने कहा कि वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के पहले ही कप्तानी छोड़ने का मन बना चुके थे। उन्होंने कहा कि मेरी भारत में आखिरी सीरीज दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ थी और उसके बाद ही मैंने बीसीसीआई को कप्तानी छोडऩे के लिए कह दिया था। पूर्व कप्तान ने साथ ही कहा कि उनके हिसाब से भारत में तीनों प्रारूपों में एक ही कप्तान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मेरे हिसाब से हमारे देश में अलग अलग प्रारूप के अलग कप्तान का प्रयोग कारगर नहीं है। इसलिए टैस्ट के अलावा वनडे और ट्वंटी 20 में एक ही कप्तान होना चाहिए।

कप्तानी छोड़ने का कोई दुख नहीं 
विकेटकीपर बल्लेबाज ने साथ ही कहा कि बतौर कप्तान उन्हें किसी भी बात का कोई दुख या पछतावा नहीं है। धोनी ने कहा कि जिस तरह से जूनियर खिलाड़ी टीम को आगे ले जा रहे हैं। उसे देखकर मुझे बहुत खुशी होती है। मुझे जीवन में किसी बात का दुख नहीं है। हर चीज जो आपको परेशान करती है वह आपको मजबूत बनाती है। मैंने जीवन में मुश्किल समय देखा है और फिर अच्छा समय भी देखा है।