INDvsENG: युवराज-धोनी की करिश्माई पारी से मैच के साथ-साथ सीरीज पर कब्जा

इंग्लैंड के खिलाफ एक दिवसीय मैच में युवराज और धोनी की करिश्माई पारी ने भारत ने मैच के साथ-साथ सीरीज पर भी कब्जा जमा लिया है। कटक में खेले गए तीन वनडे मैचों की सीरीज का दूसरा मैच भी अपने नाम कर मेहमान इंग्लैंड टीम पर 2-0 की बढ़त भारत ने बना ली है।

INDvsENG: युवराज-धोनी की करिश्माई पारी से मैच के साथ-साथ सीरीज पर कब्जा

इंग्लैंड के खिलाफ एक दिवसीय मैच में युवराज और धोनी की करिश्माई पारी ने भारत ने मैच के साथ-साथ सीरीज पर भी कब्जा जमा लिया है। कटक में खेले गए तीन वनडे मैचों की सीरीज का दूसरा मैच भी अपने नाम कर मेहमान इंग्लैंड टीम पर 2-0 की बढ़त भारत ने बना ली है। भारतीय टीम ने इंग्लैंड को जीत के लिए 382 रनों का लक्ष्य रखा था लेकिन इंग्लैंड की टीम निर्धारित 50 ओवरों में 8 विकेट खोकर 366 रन ही बना सकी और  15 रन से यह मैच हार गई। इंग्लैंड की तरफ से जेसन रॉय ने 82, जोए रूट ने 54, मोईन अली ने 55 और कप्तान इयॉन मॉर्गन ने सबसे अधिक 102 रन बनाए। वहीं भारत की तरफ से आर अश्विन ने तीन, जसप्रित बुमराह ने दो और भुवनेश्वर कुमार और रवींद्र जडेजा ने 1-1 विकेट लिए।

इससे पहले युवराज सिंह ने शतक जड़ते हुए पुराने जोड़ीदार महेंद्र सिंह धोनी (134) के साथ 256 रनों की साझेदारी कर भारत को 50 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 381 रनों के विशाल स्कोर तक पहुंचाया। युवराज ने शानदार 150 रनों की पारी खेली। इसके लिए उन्हें 'मैन ऑफ द मैच' दिया गया। यह इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी टीम का तीसरा सर्वश्रेष्ठ स्कोर है। साथ ही यह भारत का इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा सर्वोच्च स्कोर है।

भारत टॉस हार गई थी लेकिन इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी का आमंत्रित किया। भारत ने पहले ही 25 रनों पर अपने तीन विकेट खो दिए थे।लोकेश राहुल (5), शिखर धवन (11) और कप्तान कोहली (8) पवेलियन लौट चुके थे। जब मात्र 25 रनों ने तीन विकेट खो दिया तो ऐसा लग रहा था कि मैच भारत हार जाएगा लेकिन इसके बाद युवराज और धोनी की अनुभवी जोड़ी ने अपनी कुशलता का परिचय देते हुए टीम को मजबूती प्रदान किया। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 38.2 ओवरों में 6.67 की औसत से रन बनाए। यह एकदिवसीय क्रिकेट में चौथे विकेट के लिए अभी तक की दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है।

लगातार टीम से अंदर-बाहर हो रहे युवराज ने इस मैच में पुराने अंदाज में बल्लेबाजी की और अपने चीर परिचित शॉट्स खेलते हुए भारत को जीत की तरफ ले गए। पूर्व कप्तान धोनी ने युवराज का बखूबी साथ दिया और उन्हें लगातार स्ट्राइक देते रहे।