ISI ने कराया था पुखाराया रेल हादसा, 3 संदिग्ध गिरफ्तार

पिछले साल कानपुर के नजदीक पुखराया में हुआ रेल हादसा ISI ने कराया था। इसका खुलासा बिहार पुलिस ने किया है।

ISI ने कराया था पुखाराया रेल हादसा, 3 संदिग्ध गिरफ्तार

पिछले साल कानपुर के नजदीक पुखराया में हुआ रेल हादसा ISI ने कराया था। इसका खुलासा बिहार पुलिस ने किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बिहार पुलिस ने दावा किया है कि 20 नवंबर को पुखराया के पास हुआ रेल हादसा आईएसआई की साजिश का नतीजा था। मोतिहारी के एसपी जितेंद्र राणा के मुताबिक गिरफ्तार किए गए तीन आरोपियों ने इसका खुलासा किया। आरोपियों से पूछताछ में जानकारी मिली कि कानपुर रेल हादसे का मास्टर माइंड दुबई में बैठा नेपाल का कारोबारी शम्शुल होदा है। उसी ने इसे अंजाम देने के लिए फंडिंग की थी। जांच में ये भी खुलासा हुआ कि ये कारोबारी ISI को भी फंडिंग करता है। ज्ञात हो कि पिछले साल 20 नवंबर को पटना-इंदौर एक्स्प्रेस पटरी से उतर गई थी। इसमें 150 से ज्यादा लोगों की जान गई।


रिपोर्ट के मुताबिक एसपी राणा ने बताया कि मोती पासवान समेत तीन आरोपियों ने कानपुर रेल हादसे से जुड़े कई बड़े खुलासे किए हैं। शम्शुल ने नेपाल के बृजकिशोर गिरी उर्फ बाबा के जरिए कानपुर रेल हादसे की साजिश रची थी। मोती पासवान ने पुलिस को बताया कि इस साजिश में कारोबारी शम्शुल का भतीजा जियाउल हक और एक अन्य व्यक्ति भी शामिल था। इनके साथ राकेश यादव, गजेंद्र यादव और बृजकिशोर गिरी के अलावा दूसरे लोग पूर्वी चंपारण से गए थे। इन्हीं लोगों ने पूर्वी चंपारण के घोड़ासहन में भी अक्टूबर में IED लगाकर एक पैसेंजर ट्रेन उड़ाने की कोशिश की थी।


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले में अब तक आठ लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें मोती पासवान, उमाशंकर पटेल और मुकेश यादव को घोड़ासहन से जबिक बृजकिशोर, मुजाहिर अंसारी और शंभु गिरी को नेपाल से पकड़ा गया। जुबैर और जियाउल को दिल्ली से पकड़ा गया। गजेंद्र शर्मा और राकेश यादव की तलाश पुलिस कर रही है।


उधर आरोपी मोती पासवान की गिरफ्तारी और खुलासे के बाद NIA और दूसरी खुफिया एजेंसियां मोतिहारी पहुंच गई हैं। आईबी, रॉ, एटीएस, स्पेशल ब्रांच अलग-अलग मोती से पूछताछ में जुटी है। माना जा रहा है कि इस पूछताछ में कई और अहम खुलासे हो सकते हैं।