पद्म पुरस्कार न मिलने से नाराज ज्वाला गुट्टा, कहा ज्यादा और साफ बोलना हो सकती है वजह

पद्म पुरस्कार न मिलने पर भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने नाराजगी जताई है। ज्वाला ने अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखा है कि मुझे उम्मीद थी कि मेरे अचीवमेंट्स की वजह से मुझे ये पुरस्कार जरूर मिलेगा...

पद्म पुरस्कार न मिलने से नाराज ज्वाला गुट्टा, कहा ज्यादा और साफ बोलना हो सकती है वजह

पद्म पुरस्कार न मिलने पर भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने नाराजगी जताई है। ज्वाला ने अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखा है कि मुझे उम्मीद थी कि मेरे अचीवमेंट्स की वजह से मुझे ये पुरस्कार जरूर मिलेगा। आगे ज्वाला ने कहा कि शायद ये पुरस्कार न मिलने की वजह मेरा ज्यादा और साफ बोलना है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ज्वाला का कहना है कि मैं अवॉर्ड्स के पीछे नहीं भागती। मैं पुरस्कारों के लिए अप्लाई करने को लेकर कभी कम्फर्टेबल नहीं रही। लेकिन लोगों के कहने पर तीसरी बार भी मैंने अप्लाई किया था। मुझे निराश किया गया है। मैं मिक्स डबल्स में नंबर 6 और वुमन्स डबल्स में नंबर 10 पर हूं। लेकिन इसके बावजूद ये पुरस्कार मुझे नहीं मिला। बता दें कि विराट कोहली समेत खेल जगत की 8 हस्तियों को इस साल पद्म पुरस्कारों के लिए सिलेक्ट किया गया है।



वहीं ज्वाला का कहना है कि मुझे हमेशा इस बात की हैरानी होती है कि देश के सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए अप्लाई करना होता है। लेकिन चूंकि ये प्रोसीजर है तो इसके लिए मैंने भी अप्लाई किया। इसलिए किया क्योंकि मुझे लगता है कि मैंने अपने खेल से देश को गौरव दिलाया है। और इसलिए मैं ये डिजर्व करती हूं। मैं 15 साल से देश के लिए खेल रही हूं और मैंने कई बड़े टूर्नामेंट जीते हैं। मुझे इसी वजह से लगा कि अप्लाई करना चाहिए। लेकिन अब लगता है कि ये काफी नहीं है।


इसके लिए सिफारिशों की जरूरत होती है।  मेरा सवाल यही है कि इसके लिए अप्लाई की जरूरत क्यों होती है। क्या मैंने जो अचीवमेंट्स हासिल किए हैं वो काफी नहीं हैं? मैंने दिल्ली CWG में गोल्ड और ग्लासगो में सिल्वर मेडल जीते। ग्रांड प्रिक्स में भी मेडल जीता। 15 बार नेशनल चैंपियन रही। मैं पहली ऐसी भारतीय हूं जिसने ओलिंपिक के दो इवेंट्स के लिए क्वालिफाई किया। प्रकाश पादुकोण सर के बाद मैं ऐसी पहली भारतीय हूं जिसने वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल जीता। क्या ये काफी नहीं है? हो सकता है मेरा ज्यादा बोलना इसकी वजह हो। साफ बोलना वजह हो। अब मैं सच में नहीं जानती कि मुझे क्या करना चाहिए।


गौरतलब है कि 2015 में सायना नेहवाल को भी पद्म पुरस्कार के लिए नहीं चुना गया था। तब सायना भी नाराज हो गईं थीं। सायना ने मीडिया के सामने ये नाराजगी जाहिर की थी। सायना ने सीधे नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई थी कि वो प्लेयर्स की काफी इज्जत करते हैं। अच्छा खेलने पर हौसला भी बढ़ाते हैं। सायना ने कहा था कि मोदी तक उनकी आवाज जरूर पहुंचेगी।