विधायक पर लगा नाबालिग से यौन शोषण का आरोप, अरेस्ट वारंट जारी

मेघालय के निर्दलीय विधायक जूलियस दोरफांग पर लगा नाबालिग से दुष्कर्म का आरोप, मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस ।

विधायक पर लगा नाबालिग से यौन शोषण का आरोप, अरेस्ट वारंट जारी

मेघालय के निर्दलीय विधायक जूलियस दोरफांग पर 14 साल की किशोरी के यौन शोषण का आरोप लगने के बाद पुलिस ने उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। यह घटना पिछले महिने उस वक्त सामने आई थी, जब राज्य के गृह मंत्री एचडीआर लिंगदोह के बेटे के गेस्ट हाउस से एक वेटर को गिरफ्तार किया गया था।

एसपी विवेक साइम के मुताबिक, विधायक दोरफांग के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। पिछले महीने वेटर की गिरफ्तारी के बाद मामले में खुलासा हुआ था। तभी गेस्ट हाउस के पास से एक नाबालिग पीड़िता को छु़ड़ाया गया, जिसने बाद में राज्य बाल संरक्षण अधिकार आयोग को बताया कि उसे कई गेस्ट हाउस और होटलों में ले जाया जाता था।

पुलिस को आशंका है कि सेक्स रैकेट के आरोपियों में नेताओं की भूमिका भी हो सकती है। पुलिस को विधायक दोरफांग से पूछताछ करने के लिए गिरफ्तारी वारंट हासिल करने के लिए कोर्ट जाना पड़ा। दोरफांग एक उग्रवादी संगठन के संस्थापक अध्यक्ष भी रह चुके हैं।

पीड़िता के बयान के मुताबिक, इस शहर की एक अन्य महिला को भी पुलिस ने पिछले महीने गिरफ्तार किया था। आरोप है कि यह महिला लडकी की दलाल के रूप में काम करती थी। इस बीच राज्य बाल संरक्षण अधिकार आयोग की अध्यक्ष मीना खारकोनगर ने सरकारी वकील आईसी झा को निर्देश दिए हैं कि मामले में गिरफ्तार व्यक्ति की जमानत का विरोध करें।

आरोपी विधायक दोरफांग ने उग्रवाद छोड़कर 2007 में आत्मसमर्पण किया था। इसके बाद 2013 में उन्होंने मावहती विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था और जीत दर्ज की थी। सूत्रों का कहना है कि विधायक को कुछ सफेदपोश ही बचाने की कोशिश में जुटे हैं।

सूत्रों के मुताबिक ऐसा प्रतीत हो रहा है कि यह एक बड़ा सेक्स रैकेट है, जिसमें कई मंत्री, नेता और सरकारी अधिकारी शामिल हैं। आगामी 11 जनवरी को सिविल सोसाइटी ऑफ मेघालय ने गृहमंत्री की इस्तीफे की मांग को लेकर एक रैली का आयोजन किया है।