मोदी ने भारत को 1970 के दशक में धकेला- बरखा दत्त

बरखा दत्त का PM पर निशाना, कहा- मोदी ने भारत को 1970 के दशक में धकेला...

मोदी ने भारत को 1970 के दशक में धकेला- बरखा दत्त

पत्रकार बरखा दत्त ने वॉशिंगटन पोस्ट में एक लेख लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को 1970 के दशक में पहुंचा दिया है। बरखा दत्त के मुताबिक, भाजपा के मार्कीटिंग कंसलटेंट सुनील अलघ ने कहा कि भारत में कुछ ज्यादा ही डेमॉक्रेसी है, इसलिए मुश्किल फैसले नहीं लिए जाते। उनका यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले पर आया था। बरखा लिखती हैं कि हमें सिंगापुर के पूर्व प्रधानमंत्री ली कुआन जैसा कोई शख्स चाहिए, जिनके बारे में काफी सुना जा सकता है।

8 नवंबर को जब अमेरिका में चुनाव हो रहे थे, तो भारत अपनी ही चिंताओं में लगा हुआ था। पीएम मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट अमान्य कर दिए। ऐसे देश में जहां करीब 90 प्रतिशत ट्रांजेक्शंस कैश में होती है, वहां सिर्फ 4 घंटों पहले यह सूचना दी गई थी। बरखा लिखती हैं कि नरेंद्र मोदी का नोटबंदी फैसला और केंद्र के पास सारी ताकत कई मायनों में 1970 के दशक में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के फैसलों की याद दिलाता है।

नरेंद्र मोदी का यह नोटबंदी का फैसला 1969 में इंदिरा द्वारा बैंकों के राष्ट्रीयकरण के जैसा ही है। मोदी ने नए साल की पूर्व संध्या पर जो भाषण दिया था, उसमें कुछ नारे इंदिरा के 1971 में दिए गए नारों जैसा था। उस समय इंदिरा ने कहा था, वह कहते हैं इंदिरा हटाओ, मैं कहती हूं गरीबी हटाओ। इसके बाद नरेंद्र मोदी ने कहा, वह कहते हैं मोदी को हटाओ, मैं कहता हूं भ्रष्टाचार हटाओ।