नारदा स्टिंग: दागी टीएमसी नेताओं के वकील ने किया CBI जांच का विरोध

नारदा स्टिंग ऑपरेशन वीडियो टेप में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को पैसे लेते देखा गया था। इस मामले में सीबीआई जांच का टीएमसी नेताओं के वकील ने विरोध किया है।

नारदा स्टिंग: दागी टीएमसी नेताओं के वकील ने किया CBI जांच का विरोध

नारदा स्टिंग ऑपरेशन में वीडियो टेप में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं को पैसे लेते देखा गया था। इस मामले में सीबीआई जांच का टीएमसी नेताओं के वकील ने विरोध किया है। पीटीआई के हवाले से आ रही खबरों के मुतबिक टीएमसी के दागी कुछ नेताओं के वकीलों ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के समक्ष दावा किया है कि एक कथित अधिनियम में मंत्रियों की संलिप्तता पर इस तरह के एक मामले में सीबीआई से जांच नहीं कराई जा सकती है।

खबरों के मुताबिक टीएमसी नेताओं के वकील कल्याण बनर्जी ने कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश निशिता म्हात्रे और न्यायमूर्ति टी चक्रवर्ती की पीठ के समक्ष कहा कि, ये सोचते हुए कि इसमें मंत्री और ताकतवर लोग शामिल हैं इसलिए स्थानीय पुलिस से जांच न करायी जाए क्योंकि वे प्रभावित करेंगे और इसे सीबीआई को सौंप दिया जाए, ये आधार नहीं हो सकता है।

कल्याण बनर्जी बनर्जी ने दावा किया कि इस तरह के आदेश अदालत पारित नहीं कर सकती है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि अगर अदालत स्थानीय पुलिस की जांच में कुछ कमी पाता है  तो एक और एजेंसी इस मामले की जांच का सवाल पैदा होता है।

बनर्जी ने पीठ के समक्ष कहा कि मेरे मुवक्किल टीएमसी लोकसभा सांसद कानून की धारा 21 के तहत आते है, जिसमें कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति उनकी स्वतंत्रता को नुकसान पहुंचाता है तो वह इस कानून का उल्लंघन करता है।

बनर्जी ने कहा कि मामला 2014 का है, जिसमें कुछ टीएमसी नेताओं की पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले ही पैसा लेते हुए एक वीडियो टेप 2016 में सार्वजनिक की गई थी,  इससे साफ होता है एक खास राजनीतिक दल को फंसाने की कोशिश की गई।

अब इस मामले में 18 जनवरी को अगली सुनवाई होगी।