68वां गणतंत्र दिवस: देश ने दिखाया दम, मन माेह लिया खूबसूरत झांकियों ने

देश आज 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री राजपथ पर पहुंच चुके हैं। इसके पहले प्रधानमंत्री अमर जवान ज्योति पहुंचे और उन्होंने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने विजिटर्स बुक पर अपना संदेश लिखा।

68वां गणतंत्र दिवस: देश ने दिखाया दम, मन माेह लिया खूबसूरत झांकियों ने

देश आज 68वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री राजपथ पर पहुंच चुके हैं। इसके पहले प्रधानमंत्री अमर जवान ज्योति पहुंचे और उन्होंने शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने विजिटर्स बुक पर अपना संदेश लिखा। राष्ट्रपति के साथ क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन जायद भी राजपथ पहुंच चुके हैं। प्रधानमंत्री ने वीरता प्राप्त पुरस्कार लोगों से मुलाकात की।

राष्ट्रगान के साथ समारोह की शुरुआत हुई और राष्ट्रपति ने तिरंगे को सलामी दी। राष्ट्रपति ने हवलदार हंगपन दादा को मरणोपरांत आशोक चक्र से सम्मानित किया। हंगपन दादा की पत्नी ने यह सम्मान ग्रहण किया। हरियाणा की झांकी में बेटियों के साथ समानता के व्यवहार का संदेश दिया गया था। हिमाचल प्रदेश की झांकी में कसीदाकारी को दर्शाया गया था। मामूली बारिश से लोगों ने छ‍तरियां निकाल ली हैं, लेकिन लोगों को उत्साह कम नहीं हुआ है।  महाराष्ट्र की झांकी  लोकमान्य तिलक पर केंद्रित थी। राजपथ पर तमाम राज्यों की खूबसूरत झांकियां देखकर लोग दंग रह गए। 


32 साल में पहली बार NSG के कमांडोज ने राजपथ पर परेड में लिया हिस्सा, बता दें कि इस बल का गठन 1984 में हुआ था। मुंबई हमलों में एनएसजी कमांडो ने ही 9 पाकिस्तानी आतंकवादियों को मार गिराया था। राष्ट्रपति भवन से राजपथ सलामी मंच के ऊपर से हेलीकॉप्टरों का दस्ता अपने जलवे दिखाते हुए गुजरा। यूएई के मिलिट्री बैंड के सदस्यों का दस्ता देखने लायक था। इसके बाद 61 कैवेलरी के अश्वरोहियों का दस्ता राजपथ से गुजरा।

टी-90 टैंक का मैकेनाइज्ड दस्ता देख लोग चकित रह गए। इसके पीछे था इन्फैंट्री कॉम्बैक्ट व्हीकल का दस्ता। इसके बाद दिखी ब्रम्होस हथि‍यार प्रणाली और उसके बाद हथ‍ियार खोजी रडार स्वाति। स्वाति स्वदेश निर्मित रडार है। इसके बाद रासायनिक जैविक विकिरण नाभि‍कीय अतिरक्षण स्वदेश निर्मित वाहन ने देश की ताकत दिखाई। कैप्टन अनिल बंसल के नेतृत्व में स्वदेशी आकाश मिसाइल का प्रदर्शन किया गया।

इसके बाद देखने लायक था स्वेदश में ही निर्मित धनुष तोप सिस्टम। यह विश्व के सबसे आधुनिक और उच्च तकनीक वाले तोप में से है। इसके बाद मार्चिंग दस्ते की शुरुआत हुई मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री रेजिमेंट के साथ। इसके बाद बिहार रेजिमेंट के जवानों ने मार्च किया। नौसेना का ब्रास बैंड अपनी धुन से लोगों को मोहित कर गया। इसके बाद आया नौसेना का मार्चिंग दस्ता।

इसके बाद भारतीय वायुसेना के मार्चिंग दस्ते ने राजपथ पर अपने शौर्य का प्रदर्शन किया। इसके बाद नौसेना का बैंड सलामी मंच के सामने से गुजरा। इसके बाद थी भारतीय वायुसेना की झांकी अपने साजो-सामान का प्रदर्शन करते हुए। अरुध्र स्वदेशी रडार एक मीडियम पावर रडार राजपथ से गुजरा और लोगों को देश की ताकत का लोहा मनवा गया। इसके बाद देखने लायक था सीमा सुरक्षा बल का ऊंट सवार दस्ता।

17 राज्यों की झांकियां

68वें गणतंत्र दिवस परेड में 17 राज्यों की झांकियां शामिल होंगी। ये झांकियां राजपथ पर देश की एकता और विविधता के दर्शन कराएंगी। कैशलेस ट्रांजैक्श और भीम एप भी झांकी का हिस्सा होंगे।

दिल्ली में अभेद्य सुरक्षा इंतजाम
गणतंत्र दिवस को लेकर किले में तब्दील हुई राजधानी दिल्ली। राजधानी की सुरक्षा के लिए करीब 60 हजार जवान तैनात किए गए हैं। दिल्ली से लगती राज्यों की सीमा पर गहन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। आसमान से हमले के अलर्ट को लेकर एंटी एयरक्राफ्ट गन तैनात किए गए हैं। चप्पे-चप्पे पर निगरानी के लिए 15 हजार सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। राजपथ पर समारोह की वजह से मेट्रो की सेवाएं भी प्रभावित होंगी। सुरक्षा कारणों से दोपहर तक कई स्टेशनों से आवाजाही बंद रखा गया है। कई मेट्रो पार्किंग भी बंद रहेंगे।