'पद्मावती' की शुटिंग पर हुए हंगामें से नाराज बॉलीवुड

संजय लीला भंसाली का आने वाली फिल्म 'पद्मावती' की शूटिंग का जयपुर में जमकर विरोध हुआ। प्रदर्शनकारियों ने भंसाली पर फिल्म में रानी पद्मावती को अलाउद्दीन खिलजी की प्रेमिका बताने और रानी से जुड़े तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया है...

संजय लीला भंसाली का आने वाली फिल्म 'पद्मावती' की शूटिंग का जयपुर में जमकर विरोध हुआ। प्रदर्शनकारियों  ने भंसाली पर फिल्म में रानी पद्मावती को अलाउद्दीन खिलजी की प्रेमिका बताने और रानी से जुड़े तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया है। विरोध के दौरान फिल्ममेकर संजय लीला भंसाली को थप्पड़ मार दिया। उनके बाल भी खींचे गए। इस घटना का बॉलीवुड स्टार्स ने जमकर विरोध किया है। प्रियंका चोपड़ा ने इसका कड़ा विरोध करते हुए लिखा कि पूर्वजों ने हमें हिंसा करना नहीं सिखाया।


बता दें कि फिल्ममेकर अनुराग कश्यप ने इस हमले का विरोध करते हुए ट्वीट किया कि करणी सेना पर शर्म आती है, तुम्हारी वजह से मुझे खुद को राजपूत कहने में शर्म आ रही है। बिना रीढ़ वाले डरपोक लोग। हिंदू चरमपंथ अब ट्विटर की दुनिया से निकलकर असल दुनिया में आ गया है। हिंदू आतंकवाद अब मिथक नहीं रहा। हालिया रिलीज फिल्म 'काबिल' के एक्टर ऋतिक रोशन ने ट्वीट किया, "भंसाली सर, मैं आपके साथ खड़ा हूं। ये सब कितना गुस्सा दिलाने वाला है।



साथ ही करन जौहर ने लिखा कि संजय लीला भंसाली के साथ जो हुआ उससे दुखी हूं। अपने लोगों और साथियों के साथ एक इंडस्ट्री के रूप में एकजुट होकर खड़े होने का वक्त आ गया है। मैं उनके साथ खड़ा हूं। जो संजय लीला भंसाली के साथ हुआ उसे भूल नहीं पा रहा हूं। बहुत गुस्सा आ रहा है और बेबस महसूस कर रहा हूं। ये हमारा भविष्य नहीं हो सकता। फरहान अख्तर लिखा कि फिल्म इंडस्ट्री के साथियों, अगर हम डराने धमकाने की बार-बार हो रही इन घटनाओं के खिलाफ अब एक नहीं हुए तो हालात बदतर होते जाएंगे।


वहीं आलिया भट्ट ने ट्वीट कर लिखा कि पद्मावती के सेट पर जो हुआ वह शर्मनाक है। रचनात्मक स्वतंत्रता और सिनेमाई लाइसेंस जैसी भी चीज होती है। कलाकार (या कोई भी) गुंडों की दया पर निर्भर नहीं हो सकता। सिंगर और म्यूजिक कम्पोजर विशाल ददलानी ने ट्वीट किया कि संजय लीला भंसाली बॉलीवुड के सबसे सम्मानित फिल्ममेकर्स में से हैं, उनके सेट पर अटैक होना शर्मनाक है। आशा करता हूं कि फिल्म इंडस्ट्री एकजुट होकर इसका विरोध करे।