जल्लीकट्टू मामले में तमिलनाडु को मिला पीएम का साथ, कहा संस्कृति पर है गर्व

तमिलनाडु में जल्लीकट्टू पर लगी रोक को लेकर विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। जहां एक तरफ राज्य की जानी मानी हस्तियां इसके समर्थन में है वहीं केद्र सरकार भी इसके रास्ते के अवरोध को दूर करने में लग गई है...

जल्लीकट्टू मामले में तमिलनाडु को मिला पीएम का साथ, कहा संस्कृति पर है गर्व

तमिलनाडु में जल्लीकट्टू पर लगी रोक को लेकर विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है। जहां एक तरफ राज्य की जानी मानी हस्तियां इसके समर्थन में है वहीं केद्र सरकार भी इसके रास्ते के अवरोध को दूर करने में लग गई है। तमिलनाडु सरकार ने जल्लीकट्टू को लेकर जो सरकार को अध्यादेश भेजा था उसको केद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। पीएम मोदी का कहना है कि हम तमिलनाडु की समृद्ध संस्कृति पर गर्व करते है। तमिल लोगों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हरसंभव कोशिश किए जा रहे हैं। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि केंद्र सरकार पूरी तरह से तमिलनाडु की प्रगति के लिए प्रतिबद्ध है।

बता दें कि तमिलनाडु सरकार ने पशु क्रूरता रोकथाम अधिनियम के कुछ प्रावधानों में संशोधन कर इसका मसौदा केंद्र सरकार के पास भेजा था। गृह मंत्रालय ने इस पर पर्यावरण मंत्रालय और कानून मंत्रालय की राय मांगी। दोनों मंत्रालयों ने इस पर अपनी सहमति दी। इसके बाद सरकार ने अंतिम मुहर के लिए इसे राष्ट्रपति के पास भेज दिया है। राष्ट्रपति इस वक्त बंगाल में हैं और वे रात में दिल्ली लौटेंगे और इस पर फैसला लेंगे।

गौरतलब है कि बीजेपी के महासचिव मुरलीधर राव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जल्लीकट्टू को प्रतिबंधित करने का आदेश देते वक्त इस खेल से लोगों के भावनात्मक लगाव और साथ ही इसके पीछे के वैज्ञानिक तर्क की अनदेखी की गई। उन्होंने कहा कि हिंसा कभी भी जलीकट्टू का मूल नहीं रही और वास्तविक खेल में केवल सांड़ के कूबड़ को 60 सेकेंड के लिए थामना ही शामिल है और प्रतिभागी यह सुनिश्चित करते हैं कि जानवरों को किसी भी तरह से नुकसान ना पहुंचे। बता दें कि सोमवार से ही जल्लीकट्टू को लेकर प्रदर्दशन जारी है। जिसमें कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया गया। मरीना बीच पर अभी हजारों की तादात में लोग अपने काम काज छोड़ कर प्रदर्शन कर रहे हैं। तमिल लोग जलीकट्टू पर प्रतिबंध को तमिलनाडु की संस्कृति का अपमान बता रहे हैं. इसके लिए पशु अधिकार संगठन पीपुल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) भी उनके निशाने पर है।