कांग्रेस-सपा गठबंधन के लिए प्रियंका तैयार, अखिलेश के पास भेजा दूत

कांग्रेस-सपा के बीच फंसे गठबंधन के पेंच सुलझाने के लिए प्रियंका गांधी आगे आई हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रियंका ने अपने सबसे भरोसेमंद करीबी को अखिलेश यादव से बातचीत करने के लिए लखनऊ भेजा है।

कांग्रेस-सपा गठबंधन के लिए प्रियंका तैयार, अखिलेश के पास भेजा दूत

कांग्रेस-सपा के बीच फंसे गठबंधन के पेंच सुलझाने के लिए प्रियंका गांधी आगे आई हैं। प्रियंका ने अपने सबसे भरोसेमंद करीबी को अखिलेश यादव से बातचीत करने के लिए लखनऊ भेजा है। खबर ये भी है कि शनिवार को गुलाम नबी आजाद लखनऊ पहुंच सकते हैं। माना जा रहा है कि आज गठबंधन का एलान हो सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स में प्रियंका के भरोसेमंद शख्स का नाम धीरज बताया जा रहा है। जो फिलहाल लखनऊ के एक होटल में रुके हुए हैं और अखिलेश यादव की ओर से कॉल का इंतजार कर रहे हैं। वहीं कांग्रेस नेताओं ने भी गठबंधन के लिए प्रियंका गांधी के एक्टिव होने की बात कही है, हालांकि उनकी ओर से भेजे गए दूत के बारे में कुछ भी बताने से इनकार कर दिया है।


इतना ही कांग्रेस के गढ़ अमेठी और रायबरेली में भी अभी स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है। कांग्रेस चाहती है कि सपा अमेठी और रायबरेली में अपने उम्मीदवार ना उतारे।  सपा के सूत्रों का कहना है कि आयोग से पार्टी और चुनाव चिन्ह मिलने के बाद अखिलेश का हौसला बुलंद है और वो यह नहीं चाहते कि कांग्रेस को ज्यादा सीटें दी जाएं। संभावना जताई जा रही है कि गठबंधन के विषय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद भी लखनऊ पहुंच सकते हैं।


सपा सूत्रों का यह भी कहना है कि कांग्रेस 138 सीटों की मांग कर रही थी। साथ ही जब विधानसभा चुनाव के लिए संयुक्त अभियान चलाने की बात कांग्रेस से कही गई तो भी उनका कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया। इस मुद्दे पर कांग्रेस की यूपी इकाई के अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि गठबंधन की प्रक्रिया चल रही है।