बर्फ की चादर से ढका हिमाचल

देर से ही सही हिमाचल में बारिश और बर्फबारी का दौर खुल कर शुरू हो गया है। दो दिन से जारी बारिश से फसलों को संजीवनी मिली है, बर्फबारी से पर्यटकों के चेहरे खिले हैं परंतु इससे मुश्किलें भी बढ़ गई हैं...

बर्फ की चादर से ढका हिमाचल

हिमाचल में बारिश और बर्फ का दौर जितनी देरी से शुरू हुआ है उतना ही जोरो से शुरू हुआ है। हिमाचल में दो दिनों से लगातार हो रही बारिश से फसलों को संजीवनी मिली है। जहां एक तरफ बर्फबारी से पर्यटको के चहरे खिले हुए हैं वहीं दूसरी तरफ इससे काफी परेशानियों का भी सामना करना पड़ रहा है। बर्फ से ढकी ये वादियां लोगों के लिए खतरनाक भी साबित हो रही है। चंबा जिले की सराहन पंचायत में बर्फ में फिसलकर गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। शिमला में बर्फबारी ने 25 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

बता दें कि प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में 24 घंटे से बर्फबारी का दौर जारी है, जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लाहुल-स्पीति, किन्नौर, सिरमौर और चंबा के पांगी, भरमौर, डलहौजी, शिमला, कांगड़ा के नड्डी, कुल्लू के मनाली व सोलंगनाला, सोलन, मंडी जिला के जंजैहली, करसोग, बरोट समेत कई स्थानों पर भारी बर्फबारी हुई है। भारी बर्फबारी से प्रदेशभर में हजारों वाहन फंस गए हैं जिनमें बसों समेत पर्यटक वाहन भी हैं। लोगों को इनमें ही भूखे पेट रात गुजारनी पड़ी।

बिजली, पानी व संचार जैसी मूलभूत सुविधाएं ठप होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकतर इलाकों में देर रात से ही बारिश व बर्फबारी का सिलसिला जारी रहा, लेकिन सुबह करीब नौ बजे अचानक अंधेरा छा गया और जोरदार बारिश हुई। जनजातीय जिलों लाहुल-स्पीति, किन्नौर और अपर शिमला क्षेत्र में सारे कामकाज ठप पड़े हैं और बिजली गुल हो गई है। इससे ठंड के कारण पहले से ही परेशान लोगों की मुसीबत बढ़ गई है।