साइकिल के लिए लड़ रहे बाप-बेटे के बीच आजम आजमाएंगे सुलह का फार्मुला

सपा में घमासान में अब बाप बेटे के बीच की लड़ाई साइकिल के लिए शुरू हो गई है। दोनों में इस बात की बहस छिड़ी हुई है कि आखिर साइकिल की सवारी कौन करेगा...

साइकिल के लिए लड़ रहे बाप-बेटे के बीच आजम आजमाएंगे सुलह का फार्मुला

सपा में घमासान में अब बाप-बेटे के बीच की लड़ाई साइकिल के लिए शुरू हो गई है। दोनों में इस बात की बहस छिड़ी हुई है कि आखिर साइकिल की सवारी कौन करेगा। इसी सवाल के बीच अखिलेश खेमा साइकिल चुनाव चिन्ह पर दावा ठोकेंगा। इसी सिलसिले में रामगोपाल यादव चुनाव आयोग जाएंगे। वहीं साइकिल पर सवार होने के लिए मुलायम सिंह यादव भी चुनाव आयोग जाएंगे। इसी में बाप-बेटे के बीच सुलह कराने की कोशिश की जा रही है और इस जिम्मेदारी को अंजाम देने का जिम्मा आज़म खान ने उठाया है वो बाप-बेटे के बीच सुलह कराने की कोशिश कर रहे हैं।

बता दें कि आजम खान नहीं चाहते कि बाप- बेटे के बीच कलेश न हो और पार्टी न टूटे इसीलिए वो दोनों के बीच समझौता कराने की अपील कर रहे हैं। आजम ने कहा कि उनकी ये कोशिश आखिरी होगी। आजम के पास नया फॉर्मूला है कि मुलायम कुछ अपनी पसंद छोड़ें और कुछ अखिलेश छोड़े। बाद में मिल बांटकर टिकट का फैसला कर लें। दोनों पक्ष चुनाव आयोग में आमने-सामने हैं, लेकिन पिछले दरवाजे से पिता-पुत्र में समझौते की नई पहल की जा रही है।

गौरतलब है कि इससे पहले मुलायम सिंह के दिल्ली वाले आवास पर करीब 2 घंटे तक अखिलेश विरोधी गुट के नेताओं की बैठक चली, जिसमें खुद मुलायम सिंह, शिवपाल यादव, अमर सिंह, जयाप्रदा और अंबिका चौधरी शामिल हुए। बैठक के बाद मुलायम, शिवपाल, अमर सिंह और जया प्रदा चुनाव आयोग में अपनी शिकायत लेकर पहुंचे। चुनाव आयोग को मुलायम सिंह यादव ने पार्टी में हुए ताजा राजनीतिक घटनाक्रम की जानकार दी। मुलायम ने चुनाव आयोग को बताया कि दूसरे खेमे की राजनीतिक कार्यवाही पार्टी संविधान के खिलाफ है और जो रामगोपाल ने अधिवेशन बुलाया वो असंवैधानिक है, क्योंकि रामगोपाल और अखिलेश यादव को पहले ही पार्टी से निकाला जा चुका है। आयोग के सामने मुलायम ने 'साइकिल' चुनाव चिन्ह पर भी अपना हक जताया।

वहीं इस बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी अपने करीबी विधायकों और नेताओं के साथ मुलाकात की। बैठक में उनसे कहा कि वे चुनाव की तैयारी करें। अखिलेश ने कहा कि हम और नेताजी एक ही हैं। आप हमारे नारे लगाते हैं तो उनके भी लगाएं। आप लोग उनसे भी मिलें।अखिलेश एक बार फिर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करेंगे। दिल्ली के लिए रवाना होने से पहले मुलायम ने कहा कि मैं पूरी तरह से फिट हूं। मीडिया ने मेरा हमेशा साथ दिया, मैंने कोई भ्रष्टाचार या गलत काम नहीं किया है। आरोप लगा तो सुप्रीम कोर्ट ने मुझे बरी कर दिया। उन्होंने कहा कि सपा मेरी है और इसका चुनाव चिह्न भी मेरा है।