छात्राओं को अपने सामने नग्न नहाने के लिए मजबूर करता था टीचर

महाराष्ट्र में टीचर पर लगा छात्राओं को अपने सामने नग्न नहाने के लिए मजबूर और रात में उत्पीड़न करने का आरोप, मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस ।

छात्राओं को अपने सामने नग्न नहाने के लिए मजबूर करता था टीचर

महाराष्ट्र के बीड़ जिले में पुलिस ने शनिवार को एक सरकारी आवासीय स्कूल के टीचर को गिरफ्तार किया। जो कथित तौर पर छात्राओं से खुले में नग्न नहाने के लिए मजबूर और रात में उनका यौन उत्पीड़न करता था। आरोपी टीचर फिलहाल फरार है।

मामला का खुलासा तब हुआ जब शिरुर तालुका के इस स्कूल की सातवीं क्लास की छात्रा ने एक संस्था लेक लड़की अभियान को लिखकर उस टीचर की शिकायत कर दी। लड़की ने पत्र में बताया कि टीचर उन्हें अपने सामने नहाने और रात के समय यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर करता है।

लड़की के मुताबिक, आरोपी टीचर पिछले 5 महीनों से एेसा कर रहा था। 'टाइम्स अॉफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक लड़की की उसके मां-बाप ने स्कूल से निकलकर शादी करा दी है, जबकि वह नाबालिग थी। शिरुर पुलिस ने पॉस्को एक्ट और आईपीसी की यौन उत्पीड़न की कई धाराओं के तहत आरोपी टीचर पर मामला दर्ज कर लिया है।

बीड़ के एसपी जी श्रीधर ने टीओआई को बताया कि आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस आवासीय स्कूल में 120 बच्चे पढ़ते हैं, जिसमें 36 लड़कियां हैं। इसमें सातवीं क्लास तक के लड़के और लड़कियों के लिए अलग-अलग रहने की सुविधा है। इस स्कूल में 8 पुरुष टीचर्स हैं, जो हर हफ्ते बारी-बारी से स्कूल में ही रहते हैं। इसमें कोई महिला टीचर या वॉर्डन नहीं है।

लेक लड़की अभियान की संस्थापक वर्षा देशपांडे का कहना है कि हमने वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के साथ स्कूल का दौरा किया था। जब पूछा गया तो लड़कियों ने यौन उत्पीड़न के बारे में वही बातें बताईं, जो खत में लिखी गई थीं।