सर्वे में फैल हुई यूपी की व्यवस्था, 82 फीसदी लोगों ने कहा खराब है स्थिति

यूपा की एक लोकल सर्कल नाम की एजेंसी ने मतदाताओं के बीच एक सर्वे किया। इसमें आम जनता से जुड़े सवालों के साथ-साथ आने वाली सरकार से जनता की उम्मीदों पर भी सवाल पुछे। ये सर्वे 5 हजार लोगों के बीच किया गया...

सर्वे में फैल हुई यूपी की व्यवस्था, 82 फीसदी लोगों ने कहा खराब है स्थिति

यूपा की एक लोकल सर्कल नाम की एजेंसी ने मतदाताओं के बीच एक सर्वे किया। इसमें आम जनता से जुड़े सवालों के साथ-साथ आने वाली सरकार से जनता की उम्मीदों पर भी सवाल पुछे गए। ये सर्वे 5 हजार लोगों के बीच किया गया। जिससे कई चौकाने वाले जवाब सामने आए। जनता से पहला सवाल पुछा गया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में स्वास्थ्य सेवाओं के हालात कैसे हैं?

बता दें कि इस सवाल के जवाब में 70 फीसदी लोगों ने स्वास्थ्य सेवाओं का हाल बुरा बताया। जबकि 19 फीसदी लोगों का मानना है कि अस्पताल तो हैं, लेकिन सुविधाएं नहीं हैं। 9 फीसदी लोग ऐसे हैं जो मानते हैं कि अस्पताल कम हैं, लेकिन सुविधाएं ठीक हैं जबकि अच्छे अस्पताल और अच्छी सुविधाओं का दावा केवल दो फीसदी लोगों ने ही किया।

साथ ही सर्वे में लोगों से ये भी पूछा गया कि कानून और सुरक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए आने वाली सरकार से उनकी क्या उम्मीदें हैं। इसके जवाब में 48 फीसद लोगों ने कहा कि पुलिस और जनता के बीच तालमेल बढ़ना चाहिए जबकि 34 फीसदी लोगों ने पुलिसवालों के काम करने के तरीकों पर विचार करने की बात कही। वहीं 16 फीसद लोगों का मानना है कि पुलिसवालों को और ज्यादा प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए जबकि 2 फीसद लोग मानते हैं कि पुलिसवालों की तादाद बढ़ाने से सुरक्षा व्यवस्था में सुधार हो सकता है।

रोजगार को लेकर लोगों से पुछा गया कि रोजगार बढ़ाने के लिए आने वाली सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए?  जब ये सवाल पूछा गया तो इसके जवाब में 73 फीसद लोग ने भ्रष्टाचार खत्म कर व्यापार यानी बिजनेस को बढ़ावा देने की बात कही जबकि 15 फीसद लोगों का मानना है कि मैनुफैक्चरिंग यानि उत्पाद बनाने वाली कंपनियों को बढ़ावा देने से रोजगार के अवसर पैदा होंगे। 8 फीसद लोगों का कहना है कि आईटी कंपनियों और बीपीओ को बढ़ावा देना चाहिए जबकि 4 फीसद लोगों ने नए स्टार्टअप के मौका देने की बात कही।